Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2023 · 1 min read

तन्हाई

Post 1
तन्हाई

तन्हा कब थी मैं, साथ तन्हाई तो थी।
खामोशी कब थी,रोती शहनाई तो थी।

डूबने ही नही दिया साँसों के बोझ ने,
समुद्र में भी वर्ना, ऐसी गहराई तो थी।

जीने के लिये क्यू ,सहारा ढूंढते हैं हम
ग़म थे,यादें थी ,तेरी बेवफाई तो थी।

सोचती हूं कहां भूल आई हूं तुम को
कुछ बातें खुद से , मैंने छिपाई तो थी।

उठते देखा था, जब जनाजा वफा का
खुशक आँखे मेरी ,डबडबाई तो थी।

एक तेरे न आने से ,रुक गई थी साँसे
इंतजार मे तेरे, पलकें बिछाई तो थी।

एक खिजां का मौसम ठहर सा गया है
जिंदगी मे कभी यूं,बहार आई तो थी।
Surinder kaur

3 Likes · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
सोया भाग्य जगाएं
सोया भाग्य जगाएं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
2683.*पूर्णिका*
2683.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
माना जिंदगी चलने का नाम है
माना जिंदगी चलने का नाम है
Dheerja Sharma
"उम्र"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
कवि दीपक बवेजा
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
*बेवफ़ा से इश्क़*
*बेवफ़ा से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
उफ ये सादगी तुम्हारी।
उफ ये सादगी तुम्हारी।
Taj Mohammad
उनको मंजिल कहाँ नसीब
उनको मंजिल कहाँ नसीब
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
gurudeenverma198
सितारे हरदम साथ चलें , ऐसा नहीं होता
सितारे हरदम साथ चलें , ऐसा नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
सत्य कुमार प्रेमी
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
"तेरे लिए.." ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
क़त्आ
क़त्आ
*प्रणय प्रभात*
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
ग़ज़ल _अरमान ये मेरा है , खिदमत में बढ़ा जाये!
ग़ज़ल _अरमान ये मेरा है , खिदमत में बढ़ा जाये!
Neelofar Khan
मतदान
मतदान
साहिल
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
Loading...