Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 2 min read

ड्यूटी

ड्यूटी

सी.बी.एस.ई. बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षा का पहला दिन था। शासन-प्रशासन द्वारा शांतिपूर्वक परीक्षा संपन्न करने के लिए पूरी तैयारी की गई थी। सी.बी.एस.ई. बोर्ड द्वारा परीक्षा प्रारंभ होने से एक घंटा पहले ही सभी परीक्षार्थियों को उनके लिए नियत किए गए परीक्षा केंद्र में रिपोर्टिंग करने के निर्देश दिए गए थे। एहतियातन लगभग सभी परीक्षार्थी डेढ़-सवा घंटे पहले ही पहुंच गए थे। परीक्षा केंद्र के बाहर ड्यूटी पर तैनात सुरक्षाकर्मी देखता रहा, परीक्षार्थी अपने-अपने साधन से आते, गेट के पास लगे नोटिस बोर्ड में अपना रोल नंबर देखकर निर्धारित कक्ष की ओर चले जाते। उसने गौर किया कि एक लड़की लगभग आधे-पौन घंटे से इस नोटिस बोर्ड से उस नोटिस बोर्ड पर जाती, अपना प्रवेश पत्र निकालती और खुद पर झल्लाती रहती। उसे हैरान परेशान देखकर अंततः सुरक्षाकर्मी ने स्नेहपूर्वक पूछ ही लिया, “क्या बात है बेटा, मैं आपको बहुत देर से देख रहा हूं आप कुछ परेशान-सी लग रही हैं ? मुझे बताओ शायद मैं आपकी कुछ मदद कर सकूं।”
लड़की लगभग रोते हुए बोली, “अंकल, मुझे इस नोटिस बोर्ड पर मेरा रोल नंबर नहीं दिख रहा है। यही नहीं यहां मुझे मेरी क्लास के कोई भी बच्चे और टीचर नहीं दिखे।”
सुरक्षाकर्मी को समझते देर नहीं लगी कि उस बच्ची का परीक्षा केंद्र ये स्कूल नहीं बल्कि कोई और स्कूल है। फिर भी पूरी तसल्ली करने के लिए उसने कहा, “बेटा क्या मैं तुम्हारा प्रवेश पत्र देख सकता हूं ?”
“हां, ये देखिए।” उसने अपना प्रवेश पत्र दिखाया।
“अरे, इसमें तो तुम्हारा जो परीक्षा केंद्र लिखा है वह ये स्कूल नहीं है। तुम्हारा परीक्षा केंद्र तो यहां से लगभग सात किलोमीटर दूर है ?” सुरक्षाकर्मी बोला।
लड़की रोने लगी, तो सुरक्षाकर्मी ने कहा, “देखो बेटा, तुम रोओ मत। अभी समय है परीक्षा शुरू होने में। मुझे बताओ तुम यहां कैसे पहुंची हो ?”
“पापा छोड़कर गए हैं। वे मुझे यहां छोड़ कर ट्रेन से अपनी ड्यूटी पर चले गए हैं।” वह रोती हुई बोली।
सुरक्षाकर्मी ने तुरंत अपने सीनियर ऑफिसर को फोन लगाया, “सर, एक परीक्षार्थिनी को गलती से उसके पिताजी इस परीक्षा केंद्र के बाहर छोड़कर अपनी ड्यूटी पर बाहर चले गए हैं। बच्ची स्कूल गेट के पास खड़ी रो रही है। सर, हमें कुछ करना चाहिए वरना इसका एक साल खराब हो जाएगा।”
उधर से आदेश मिला, “तुम उसे तत्काल अपनी गाड़ी में बिठाकर उसके परीक्षा केंद्र में पहुंचाओ। मैं वहां के परीक्षक को तुरंत इंफार्म कर रहा हूं और तुम्हारी जगह ड्यूटी के लिए किसी दूसरे सिपाही को भेज रहा हूं।”
सुरक्षाकर्मी ने आदेश का पालन करते हुए अपने निजी वाहन से उस बच्ची को उसके लिए नियत परीक्षा केंद्र पर समय से पहले ही पहुंचा दिया।
इस प्रकार उस सुरक्षाकर्मी की जागरूकता और उच्च अधिकारी की सहृदयता से बच्ची का एक साल खराब होने से बच गया।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रथम किरण नव वर्ष की।
प्रथम किरण नव वर्ष की।
Vedha Singh
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
Radha jha
3432⚘ *पूर्णिका* ⚘
3432⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
डी. के. निवातिया
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
Drjavedkhan
‌‌भक्ति में शक्ति
‌‌भक्ति में शक्ति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माना जिंदगी चलने का नाम है
माना जिंदगी चलने का नाम है
Dheerja Sharma
*समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)*
*समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
सावन और साजन
सावन और साजन
Ram Krishan Rastogi
चेहरा
चेहरा
नन्दलाल सुथार "राही"
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
*Author प्रणय प्रभात*
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
माफ़ कर दो दीवाने को
माफ़ कर दो दीवाने को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
बर्दाश्त की हद
बर्दाश्त की हद
Shekhar Chandra Mitra
Loading...