Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2023 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
यदि आप 40 से ऊपर की उम्र में है और आपका व्यवसाय 70 प्रतिशत बैठ कर कार्य करने का है तो ये संदेश आपके लिए ही है।
आपको शारीरिक रूप से सक्रिय रहना होगा। अर्थात प्रति दिन आपको कम से कम 30 मिनट का अपनी इच्छानुसार व्यायाम आवश्यक है

207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
पेइंग गेस्ट
पेइंग गेस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
पूर्वार्थ
पार्थगाथा
पार्थगाथा
Vivek saswat Shukla
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
गुमनाम 'बाबा'
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते
रिश्ते
Punam Pande
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वो अनजाना शहर
वो अनजाना शहर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पागल बना दिया
पागल बना दिया
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
-मां सर्व है
-मां सर्व है
Seema gupta,Alwar
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
Neelam Sharma
*मुख काला हो गया समूचा, मरण-पाश से लड़ने में (हिंदी गजल)*
*मुख काला हो गया समूचा, मरण-पाश से लड़ने में (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अगर आप नकारात्मक हैं
अगर आप नकारात्मक हैं
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
Anamika Tiwari 'annpurna '
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
Aadarsh Dubey
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
पांव में मेंहदी लगी है
पांव में मेंहदी लगी है
Surinder blackpen
Loading...