Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*

डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
बिस्कुट डोबो चाय में ,कलाकार का काम
बिस्कुट यदि डूबा नहीं ,होगा जग में नाम
होगा जग में नाम ,चाय को भर – भर लाए
लेकिन पहली शर्त , डूबने से बच जाए
कहते रवि कविराय , लोक से रखिएगा पुट
डुबकी में निष्णात ,लौट आता ज्यों बिस्कुट
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर ( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
Adha Deshwal
पत्नी (दोहावली)
पत्नी (दोहावली)
Subhash Singhai
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
प्रणय गीत --
प्रणय गीत --
Neelam Sharma
“ कौन सुनेगा ?”
“ कौन सुनेगा ?”
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
Ranjeet kumar patre
गांधीजी का भारत
गांधीजी का भारत
विजय कुमार अग्रवाल
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
सत्य कुमार प्रेमी
"कहानी अउ जवानी"
Dr. Kishan tandon kranti
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
लक्ष्मी सिंह
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*पृथ्वी दिवस*
*पृथ्वी दिवस*
Madhu Shah
,,
,,
Sonit Parjapati
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
Ravi Prakash
दवाखाना  से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
दवाखाना से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...