Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2018 · 1 min read

डर नहीं जाता

डर नहीं जाता
०-०-०-०-०-०-०

न कहलाता कभी वो बुत तराशा ग़र नहीं जाता ।
इबादत भी नहीं होती नवाया सर नहीं जाता ।।

रवानी हो नहीं जिसमें उसे दरिया नहीं कहते ।
निकट दरिया ही’ जाता है कभी सागर नहीं जाता ।।

न देखो पाँव के छाले तलाशो है कहाँ मंजिल ।
सिकंदर है वही जो जंग से डर घर नहीं जाता ।।

जवानी चार दिन की है उतरना एक दिन पानी ।
सुनहरा हाथ से छोड़ा कभी अवसर नहीं जाता ।।

लिखा कुछ भी नहीं खाली सफे सब जिन्दगी के हैं ।
कलम भी हाथ में है पर लिखा अक्सर नहीं जाता ।।

भरोसा कुछ नहीं‌ किस मोड़ पर साँसें ठहर जायें ।
मग़र इस मौत का दिल से निकल कर डर नहीं जाता ।।

-महेश जैन ‘ज्योति’
मथुरा ।
***

373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
स्पीड
स्पीड
Paras Nath Jha
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
इंजी. संजय श्रीवास्तव
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं पत्नियॉं
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं पत्नियॉं
Ravi Prakash
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2688.*पूर्णिका*
2688.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
24 के लिए
24 के लिए
*प्रणय प्रभात*
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
संवेदना (वृद्धावस्था)
संवेदना (वृद्धावस्था)
नवीन जोशी 'नवल'
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
भोर के ओस!
भोर के ओस!
कविता झा ‘गीत’
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
gurudeenverma198
आधारभूत निसर्ग
आधारभूत निसर्ग
Shyam Sundar Subramanian
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
भोले नाथ है हमारे,
भोले नाथ है हमारे,
manjula chauhan
Kabhi kabhi paristhiti ya aur halat
Kabhi kabhi paristhiti ya aur halat
Mamta Rani
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
Subhash Singhai
हृदय द्वार (कविता)
हृदय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
"स्वभाव"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक मंज़र कशी ओस के संग 💦💦
एक मंज़र कशी ओस के संग 💦💦
Neelofar Khan
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
नेताम आर सी
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
Jyoti Khari
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
संवेदना ही सौन्दर्य है
संवेदना ही सौन्दर्य है
Ritu Asooja
Loading...