Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

डर डर के उड़ रहे पंछी

डर डर के उड़ रहे पंछी, उन्हें नीड़ तक आना है।
ये कैसे जाल बिछ रहे, कैसे पंख बचाना है ।।
आशियां उनका वहाँ, सुदूर दरख्त तक जाना है।
उड़ कर जाना वहाँ, जीवन दावँ पर आना है।।
कैसा ये जंजाल बुना, उन्हें चीर आसमाँ जाना है।।
डर डर के उड़ रहे पंछी,उन्हें नीड़ तक आना है।
वो भी ये उत्सव मनाते, संग तुम्हारे साथ ही।
संग खुशियां वो बटाते, ना होता मांज़ा हाथ ही।
त्योहारों में प्यार भरे , यह सोच तुम्हें बनाना है।
डर डर के उड़ रहे पंछी,उन्हें नीड़ तक आना है।
घायल गर हुए वो तो, घायल दिल का नाता है।
भातृ हमारे प्रकृति संगी, जब धरती भी माता है।
सुबह शाम उनको उड़ना, चूजे पोषण करना है।
डर डर के उड़ रहे पंछी, उन्हें नीड़ तक आना है—
बिसरे डंडे गिल्ली भोर, सिर्फ काट कते का शोर।
इतनी भी क्यों है होड़, ना जोड़ो यह शीशा डोर।।
ख्याल मूक का रख, उत्सव में खुशियां लाना है।
डर डर के उड़ रहे पंछी, उन्हें नीड़ तक आना है —
पशु पक्षी बचाये, उत्सव में खुशियां बढ़ाये।
शुभ मकर सक्रांति।
(लेखक- डॉ शिव ‘लहरी’)

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. शिव लहरी
View all
You may also like:
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
दिल में गहराइयां
दिल में गहराइयां
Dr fauzia Naseem shad
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
नए वर्ष की इस पावन बेला में
नए वर्ष की इस पावन बेला में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
Kshma Urmila
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
संघर्ष
संघर्ष
Shyam Sundar Subramanian
2926.*पूर्णिका*
2926.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पास आएगा कभी
पास आएगा कभी
surenderpal vaidya
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
मिलन
मिलन
Bodhisatva kastooriya
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
#drArunKumarshastri
#drArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
अब हम क्या करे.....
अब हम क्या करे.....
Umender kumar
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
माना के गुनाहगार बहुत हू
माना के गुनाहगार बहुत हू
shabina. Naaz
Loading...