Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2019 · 1 min read

डर के आगे जीत है

डर के आगे जीत है
“हाये… हाये… क्या हुस्न पाई है यार।”
“लगता है बनाने वाले ने बड़े ही फुरसत से बनाया है इसे।”
“एक बार… बस एक बार मिल जाए न, फिर तो मैं जन्नत भी छोड़ दूँ…।”
ऐसी बातें लगभग रोज ही कालेज के रास्ते में पड़ने वाली उसी गली से गुजरते समय कुछ आवारा लड़कों के मुँह से सीमा और उसकी सहेली मीना को सुननी पड़ती थी।
एक दिन मीना ने सीमा से कहा, “सीमा, तुम्हारे पापा पुलिस इंस्पेक्टर हैं। क्यों न इनकी करतूत हम उन्हें बता दें।”
“मीना, तुम्हें मेरे पिताजी का स्वभाव नहीं पता। जब उन्हें इस बात का पता चलेगा, तो वे इन्हें तत्काल गिरफ्तार कर लेंगे और मेरी पढ़ाई बंद करवा देंगे। ये तो 4-6 दिन बाद जेल से छूट जाएँगे, पर मेरी पढ़ाई हमेशा के लिए छूट जाएगी।”
“अरे हाँ यार। मेरे घर वाले भी पता चलते ही मेरी पढ़ाई बंद करवा देंगे। लेकिन हम ये सब कब तक बर्दाश्त करती रहेंगी ?”
“मीना, मैंने आत्मरक्षा की दृष्टि से पिछले सप्ताह ही जूडो-कराटे की क्लास ज्वाइन कर ली है, मेरी मानो तो तुम भी कर लो। जिस दिन ये नपुंसक सोच वाले लड़के हमें छूने की कोशिश करेंगे, हम उन्हें ऐसा सबक सिखाएँगे कि वे फिर कुछ करने के काबिल ही नहीं रहेंगे।”
अब दोनों सहेलियाँ एक साथ जूडो-कराटे सीख रही हैं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
.........???
.........???
शेखर सिंह
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"प्रेम कर तू"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़
इश्क़
हिमांशु Kulshrestha
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
माँ
माँ
The_dk_poetry
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)*
*किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
Ritu Asooja
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
Bidyadhar Mantry
"गेंम-वर्ल्ड"
*Author प्रणय प्रभात*
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जब मैं लिखता हूँ
जब मैं लिखता हूँ
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मर मिटे जो
मर मिटे जो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां को नहीं देखा
मां को नहीं देखा
Suryakant Dwivedi
"दहलीज"
Ekta chitrangini
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr Shweta sood
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
VEDANTA PATEL
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारा जिक्र
तुम्हारा जिक्र
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
Loading...