Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

डरने लगता हूँ…

गुनाह अपने गिनाता हूँ डरने लगता हूँ
खुदा के सामने जाता हूँ डरने लगता हूँ

कुछ इतना ख़ौफ़ज़दा हूँ मैं अपने कमरे में
कोई चराग़ जलाता हूँ डरने लगता हूँ

अब इस मक़ाम पे पहुंची है मेरी तन्हाई
क़रीब खुद के भी जाता हूँ डरने लगता हूँ

क़रीब देख के मुझको लिपट न जाए कहीं
मैं उसकी बज़्म में जाता हूँ डरने लगता हूँ

कहीं वो जान न ले मेरे दिल की हालत को
किसी को शेर सुनाता हूँ डरने लगता हूँ
~Aadarsh Dubey

Language: Hindi
1 Like · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
देवतुल्य है भाई मेरा
देवतुल्य है भाई मेरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम ब
सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम ब
पूर्वार्थ
... और मैं भाग गया
... और मैं भाग गया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
23/155.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/155.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
Ravi Prakash
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
आत्मा की शांति
आत्मा की शांति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
आंगन महक उठा
आंगन महक उठा
Harminder Kaur
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
"" *जब तुम हमें मिले* ""
सुनीलानंद महंत
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
Dr MusafiR BaithA
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
Shashi kala vyas
#लघु कविता
#लघु कविता
*Author प्रणय प्रभात*
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...