Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 4 min read

ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

बांध देना कभी किसी तारे पर अपनी निगाह,
कभी चांद की रोशनी में होश से नहाना तुम।

रोक देना भागते हुए लम्हों को किसी पहर,
किसी रात महबूब से ख्यालों में बतियाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
-मोनिका

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

उड़ा देना कभी धुएं के इक कश में गम तमाम,
कभी तन्हा बैठ जश्न ए ज़िंदगी को मनाना तुम।

करना सैर ज़माने की जब कभी मिले फुरसत,
फक़त दीया बुझने से पहले घर लौट जाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

सुनना जरा गौर से परिंदों की आवाज़ें भी कभी,
कभी बहती नदी के साथ – साथ गुनगुनाना तुम।

खोल देना सारे पंख मन के आंखें बंद करके कभी,
सारी सरहदों के पार अपनी इक दुनियां बनाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

कभी देखना आंखों के दायरे के बाहर का मंज़र भी,
कभी पढ़ना मौन को कभी ख़ुद भी मौन हो जाना तुम।

खोजना पत्थरों के बीच भी छुपा इन्सान किसी कोने में,
फकत उसकी झलक पाकर फिर मोम हो जाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

झांकना बूढ़ी आंखों के भीतर भी बैठकर पास कभी,
इक अनंत यात्रा की झलक पाकर हैरां हो जाना तुम।

मांगना तजुर्बे ज़िंदगी के कुछ पुरानी रूहों से अकसर,
फिर बैठकर बहुत सी जटिल पहेलियां सुलझाना तुम ।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

कभी आकाश भी देना अपने सपनों को हकीकत से परे,
भीड़ को जाने देना कभी कभी अपना साथ निभाना तुम।

तोड़ना कभी वो जंजीर भी जो रोक देना चाहती हो तुम्हें,
ज़िंदगी को जीना भी कभी, कभी इसे उत्सव बनाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

डूबने देना अपने आप को कभी गहरे सागर में ज़िंदगी के,
कभी इसकी लहरों पे काग़ज़ की कश्ती भी तैराना तुम।

देखना अपनी नज़र से भी अपना खुद का वुजूद कभी,
फिर उसके खिलाफ़ दुनियां की बात भी झुठलाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

खोल देना हर राज़ कभी कोरे काग़ज़ पर कलम से,
कभी किसी ग़ज़ल में हाल ए दिल बयां कर जाना तुम।

बुन देना कभी इश्क़ के पूरे सफ़र को चन्द लफ़्ज़ों में,
इक मतले में कभी कभी तमाम ज़िंदगी कह जाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

गुजरना उन रास्तों को भी जो अनजान हो अनकहे हो,
देख के मंजर परखकर खुशबू चाहे लौट भी आना तुम।

दो घूंट भी पी लेना मोहब्बत के नाम तो कभी गम के,
कभी बेहोशी की हद से गुजरकर भी होश को पाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

हवा दे देना उमड़ते सैलाब को भी जिस्म के भीतर कभी,
कभी भावनाओं की आंधी संग ख़ुद भी बह जाना तुम।

कभी तोड़ देना बांध भी, बंदिशे भी, हदें भी, सरहदें भी,
देखना कभी आईनें में और ख़ुद पे ही बहक जाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

पढ़ लेना कभी कभी कहकहों के पीछे की कराहटें,
कभी दर्द के बीच खुशी की लहर भी ढूंढ लाना तुम,

बैठ जाना कभी स्याह रातों में सितारों के साथ भी,
कभी अंधेरों में उतर कर रोशनी ख़ोज लाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

बख्श देना कभी कभी किसी के नाकाबिल गुनाह भी,
कभी वुजूद के दायरे से उठकर इक इंसां हो जाना तुम।
ठहराव सुकून है,

हो जाना खफा कभी कभी ख़ुद अपने भीतर के शख्स से,
कभी कभी बैठाकर अपने पास ख़ुद को ही मनाना तुम।

ठहराव सुकून है,
कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।

मिले जब भी फुरसत तुम्हें
इस बेवजह दौड़ती ज़िंदगी से,
तकना शून्य को और मुस्कुराना तुम।

Language: Hindi
2 Likes · 327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
DrLakshman Jha Parimal
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लाल बचा लो इसे जरा👏
लाल बचा लो इसे जरा👏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
*प्रणय प्रभात*
स्वदेशी
स्वदेशी
विजय कुमार अग्रवाल
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
प्रकाश
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
"रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
23/160.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/160.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
मोदी जी
मोदी जी
Shivkumar Bilagrami
दूब घास गणपति
दूब घास गणपति
Neelam Sharma
Loading...