Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2016 · 1 min read

ट्रैफिक सिग्नलों पर बच्चे

महानगर की चौड़ी चिकनी सड़़कों पर
दौड़ती हैं दिन-रात अनगिनत गाड़ियां
सुस्ताती हैं थोड़ी देर के लिए
ट्रैफिक सिग्नलों पर
जलती हैं जब लाल बत्तियां
सड़क के किनारे खड़े बच्चे
बेसब्री से करते हैं
इस लाल बत्ती का इंतिजार
ज्योंही जलती है लाल बत्ती
भागते हैं रूकती गाड़ियों के पीछे
खिलौने, किताबें, रंग-बिरंगे फूल
पानी की बोतलें और अखबार लिए

कुछ होते हैं खाली हाथ
जो मांगते हैं भीख या फिर
अपनी फटी कमीज़ से
पोछते हैं महंगी गाड़ियां को   
निहारते है बड़ी उम्मीद से
वातानुकूलित गाड़ियों में बैठे लोगों को
जो परेशान हैं लाल बत्ती के जलने से
कुछ होते हैं दानवीर
जो थमा देते हैं चंद सिक्के
आत्म संतुष्टि के लिए
बाकि फेर लेते हैं मुँह

आस भरी निगाहों से
बच्चे देखते हैं दूसरी ओर
जल जाती है तभी हरी बत्ती
दौड़ने लगती हैं गाड़ियाँ
मायूस लौट आते हैं बच्चे
सड़क के किनारे और करते हैं
लाल बत्ती का इंतिजार
चिलचिलाती धूप की
पिघलते कारतोल की
ज़िल्लत-दुत्कार की
परवाह नहीं करते बच्चे
उन्हें होती है फिक्र बस इतनी
कि कैसे भरेगा खाली पेट

जीना चाहते हैं बच्चे
औरों की तरह जिंदगी  
ढोते हैं मासूम कंधों पर
पहाड़-सा बोझ
सहते हैं रोज यातनाएं
खेलते हैं खतरों से
सोते हैं फुटपाथ पर
जीते हैं बीमार माहौल में  
ढूंढते हैं सुख का रास्ता
पालते हैं नशे की लत
वक्त से पहले बड़े हो जाते हैं
ट्रैफिक सिग्नलों पर बच्चे ।

© हिमकर श्याम

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मत भूलना"
Dr. Kishan tandon kranti
छप्पन भोग
छप्पन भोग
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
Shashi kala vyas
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
कमियाबी क्या है
कमियाबी क्या है
पूर्वार्थ
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
*प्रणय प्रभात*
साँझ ढली पंछी चले,
साँझ ढली पंछी चले,
sushil sarna
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
...........
...........
शेखर सिंह
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
2875.*पूर्णिका*
2875.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब आदमी के जाने कितने रंग हो गए।
अब आदमी के जाने कितने रंग हो गए।
सत्य कुमार प्रेमी
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
Ravi Prakash
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
दोहे
दोहे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...