Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

*ट्रस्टीशिप 【कुंडलिया】*

ट्रस्टीशिप 【कुंडलिया】
■■■■■■■■■■■■
धन के ट्रस्टी बन रहें , गाँधी जी की सीख
राष्ट्र हेतु कर्तव्य यह ,नहीं किसी को भीख
नहीं किसी को भीख ,धनिक धन रखें अमानत
समझें खुद को आम , लोकहित में हों नित रत
कहते रवि कविराय , भाव हों अपनेपन के
मिटें समूचे क्लेश ,धनिक यदि ट्रस्टी धन के
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गिल्ट
गिल्ट
आकांक्षा राय
देकर हुनर कलम का,
देकर हुनर कलम का,
Satish Srijan
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
Ravi Prakash
अपना जीवन पराया जीवन
अपना जीवन पराया जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जो वक़्त के सवाल पर
जो वक़्त के सवाल पर
Dr fauzia Naseem shad
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
Surinder blackpen
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
Ram Krishan Rastogi
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
'अशांत' शेखर
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
सीमजी प्रोडक्शंस की फिल्म ‘राजा सलहेस’ मैथिली सिनेमा की दूसरी सबसे सफल फिल्मों में से एक मानी जा रही है.
सीमजी प्रोडक्शंस की फिल्म ‘राजा सलहेस’ मैथिली सिनेमा की दूसरी सबसे सफल फिल्मों में से एक मानी जा रही है.
श्रीहर्ष आचार्य
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
"मेरा भोला बाबा"
Dr Meenu Poonia
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
"सहारा"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
पर्दाफाश
पर्दाफाश
Shekhar Chandra Mitra
संस्कारों को भूल रहे हैं
संस्कारों को भूल रहे हैं
VINOD CHAUHAN
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
■ जिंदगी खुद ख्वाब
■ जिंदगी खुद ख्वाब
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...