Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

“टी शर्ट”

“टी शर्ट”
लाल, नीली, हरी, पीली, काली और गुलाबी
भिन्न भिन्न रंग रुपों में बाजार में पाई जाती
छोटी, बड़ी, सादा, फैंसी या फिर ये है रंगीन
नाम तुम पूछो इसका तो टी शर्ट कही जाती,
कोई पहने ढीली ढाली तो कोई पहने टाईट
किसी किसी को तो ये बिल्कुल तंग सुहाती
मीनू को अच्छी लगती आरामदायक टी शर्ट
पूमा कंपनी हमेशा से ही फेवरेट बन जाती,
कोई पहनता बिल्कुल साधारण सी टी शर्ट
किसी को तो हर दम फूल वाली मन भाती
कोई पहनता अपनी फोटो इस पर छपवाकर
किसी किसी को तो रंगीन टी शर्ट ही सुहाती,
बच्चों को अच्छी लगती कार्टून वाली टी शर्ट
युवा को भिन्न रंग और डिजाइन वाली भाती
लड़कियां चाहती सुर्ख गुलाबी पहनूं टी शर्ट
तपती गर्मी में तो ये सबकी चहेती बन जाती।

Language: Hindi
1 Like · 485 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
"क्या मझदार क्या किनारा"
Dr. Kishan tandon kranti
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
फिलहाल अंधभक्त धीरे धीरे अपनी संस्कृति ख़ो रहे है
फिलहाल अंधभक्त धीरे धीरे अपनी संस्कृति ख़ो रहे है
शेखर सिंह
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मीत की प्रतीक्षा -
मीत की प्रतीक्षा -
Seema Garg
हाल- ए- दिल
हाल- ए- दिल
Dr fauzia Naseem shad
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
Shashi Dhar Kumar
नियम
नियम
Ajay Mishra
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
लोगों के दिलों में,
लोगों के दिलों में,
नेताम आर सी
मन
मन
Punam Pande
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
ना होगी खता ऐसी फिर
ना होगी खता ऐसी फिर
gurudeenverma198
मदमस्त
मदमस्त "नीरो"
*प्रणय प्रभात*
घर
घर
Slok maurya "umang"
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
*गरमी का मौसम बुरा, खाना तनिक न धूप (कुंडलिया)*
*गरमी का मौसम बुरा, खाना तनिक न धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
Paras Nath Jha
यायावर
यायावर
Satish Srijan
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
Loading...