Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

“टमाटर” ऐसी चीज़ नहीं

“टमाटर” ऐसी चीज़ नहीं
जिसके बिना प्राण छूट जाएं।
दो दिन बहिष्कार हो जाए,
तीसरे दिन लाइन पर आ जाएंगे।
टमाटर के दाम। अपने आप।।

🙅प्रणय प्रभात🙅

1 Like · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
Paras Nath Jha
दो जीवन
दो जीवन
Rituraj shivem verma
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
Lokesh Sharma
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
😊 व्यक्तिगत मत :--
😊 व्यक्तिगत मत :--
*प्रणय प्रभात*
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
अंसार एटवी
All you want is to see me grow
All you want is to see me grow
Ankita Patel
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर....
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर....
Shweta Soni
*नहीं फेंके अब भोजन (कुंडलिया)*
*नहीं फेंके अब भोजन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
मुस्कराना
मुस्कराना
Neeraj Agarwal
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...