Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2018 · 1 min read

झड़ता रहा

झड़ता रहा पत्तो सा ।
चलता रहा रस्तों सा ।

मिला नही कोई ठिकाना ,
अंजाम रहा किस्तों सा ।

वो टपका बून्द की मांनिद ,
अंजाम हुआ अश्कों सा ।

सहकर तंज दुनियाँ के ,
रह गया दरख्तों सा ।

जीतकर जंग दुनियाँ की ,
उलझता गया रिश्तों सा ।

आजमाइशों की जकड़ से,
कसता रहा मुश्कों सा ।

…. विवेक दुबे”निश्चल”@…

432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मगर"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
उससे कोई नहीं गिला है मुझे
उससे कोई नहीं गिला है मुझे
Dr Archana Gupta
**कविता: आम आदमी की कहानी**
**कविता: आम आदमी की कहानी**
Dr Mukesh 'Aseemit'
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मनुष्य और प्रकृति
मनुष्य और प्रकृति
Sanjay ' शून्य'
करार दे
करार दे
SHAMA PARVEEN
चल मनवा चलें.....!!
चल मनवा चलें.....!!
Kanchan Khanna
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
*An Awakening*
*An Awakening*
Poonam Matia
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
बाल कविता :गर्दभ जी
बाल कविता :गर्दभ जी
Ravi Prakash
"मुगालता बड़ा उसने पाला है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
शुभ रक्षाबंधन
शुभ रक्षाबंधन
डॉ.सीमा अग्रवाल
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
उपहास ~लघु कथा
उपहास ~लघु कथा
Niharika Verma
माँ दहलीज के पार🙏
माँ दहलीज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
बैठा दिल जिस नाव पर,
बैठा दिल जिस नाव पर,
sushil sarna
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
Loading...