Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 2 min read

झूठी शान

बाल कहानी
झूठी शान

बात बहुत पुरानी है। सुन्दर वन के एक पुराने बरगद पेड़ की खोह में कालू नामक एक उल्लू अपने परिवार के साथ रहता था। कालू का एक हंस मित्र था- हंसराज। वह हंसों का राजा था।
कालू अक्सर अपने मित्र हंसराज से मिलने जाता था। दोनों मित्र घंटों बैठकर बातें करते। कालू हंसराज के राजसी ठाठ-बाट देखकर मन में सोचता “काश ! उसके पास भी ये सब होते।”
वह प्रकट रूप में ऐसा कुछ भी बोलता नहीं था। कालू से हंसराज अधिकतर राजकाज की ही बातें किया करता था क्योंकि कालू ने उसे बताया था कि वह उल्लूओं का राजा है तथा सुन्दरवन में उसका एकछत्र राज है। उसकी अनुमति के बगैर सुन्दर वन में कुछ भी नहीं हो सकता।
एक दिन कालू हंसराज से बोला- ‘‘मित्र हंसराज, मैं आपसे मिलने तो कई बार आ चुका हूँ, परंतु आप कभी हमारे यहाँ नहीं आए। कभी पधारिए हमारे राज्य में।’’
कह तो दिया पर मन में सोचा कि यदि सचमुच कभी हंसराज उसके यहाँ आ जाएँ तो फिर वह मुँह दिखाने के काबिल नहीं रहेगा।
हँसराज बोला- ‘‘मित्र यदि ऐसा ही है तो चलो आज ही चलते हैं।’’
मन मार कर कालू ने हँसराज को साथ ले सुंदर वन की ओर प्रस्थान किया।
अभी वे बरगद के पेड़ के पास पहुँचने ही वाले थे कि बरगद पेड़ के नीचे डेरा डाले सैनिकों को देखकर चौंक पड़े। कालू तो गुस्से से तमतमा गया।
हँसराज से बोला- ‘‘इनकी ये हिम्मत ! मुझसे पूछे बगैर इन्होंने यहाँ आने की जुर्रत कैसे की ? अभी देखता हूँ।’’ यह कह कर वह चिल्लाने लगा।
उसकी आवाज सुन कर उल्लू का बेटा खोह से बाहर निकल आया। वह भी अपने पिता को बुलाने लगा। उल्लूओं की तेज आवाज सुन कर एक सैनिक सेनापति से बोला- ‘‘सेनापति जी ! उल्लू की आवाज सुनना बहुत अशुभ माना जाता है।’’
सेनापति बोला- ‘‘उल्लू, कहाँ है ? पता करो और देखते ही गोली मार दो।’’
आवाज उसी पेड़ से आ रही थी।
सैनिकों ने कालू के बेटे को खोजकर गोली मार दी। झूठी शान और दिखावे के चक्कर में कालू को अपने इकलौते पुत्र से हाथ धोना पड़ा। पोल खुली सो अलग।
-डॉ प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Pradeep Kumar Sharma
View all
You may also like:
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
Dr Parveen Thakur
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
हमारा संविधान
हमारा संविधान
AMRESH KUMAR VERMA
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
Ravi Prakash
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
प्रणय निवेदन
प्रणय निवेदन
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
Dr Archana Gupta
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
prAstya...💐
prAstya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
Er. Sanjay Shrivastava
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मै स्त्री कभी हारी नही
मै स्त्री कभी हारी नही
dr rajmati Surana
मैं फिर आऊँगा
मैं फिर आऊँगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ला-फ़ानी
ला-फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
भूले से हमने उनसे
भूले से हमने उनसे
Sunil Suman
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
Rita Singh
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
■ कटाक्ष / प्रत्यक्ष नहीं परोक्ष
■ कटाक्ष / प्रत्यक्ष नहीं परोक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
Seema gupta,Alwar
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आँख अब भरना नहीं है
आँख अब भरना नहीं है
Vinit kumar
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
हुनर है मुझमें
हुनर है मुझमें
Satish Srijan
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सुनो"
Dr. Kishan tandon kranti
✍️इश्तिराक
✍️इश्तिराक
'अशांत' शेखर
Loading...