Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

” झूंठा है , शर्माना तेरा ” !!

यों गुलाब की पँखुरी सी ,
तुम लगी गुलबिया !
चंचल नयना करे शिकायत ,
आओ ना रंगरसिया !
उपवन उपवन लग ना जाए –
अब अलियों का डेरा !!

मुस्कान जगी है अधरों पर ,
है कहीं शरारत मन में !
हैं कर्णफूल,गलहार चूमते ,
सजी कलाई कंगन से !
अलमस्त गन्ध गुंथी कुन्तल में –
गतिमान समय का फेरा !!

जो जहां खड़ा,वहीं है ठहरा ,
छवि लगे है न्यारी !
गुल शरमाये से लगते हैं ,
है शर्मायी फुलवारी !
हम तो खुद को बिसराये हैं –
है जगमग रूप घनेरा !!

Language: Hindi
Tag: गीत
742 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
#हाइकू ( #लोकमैथिली )
#हाइकू ( #लोकमैथिली )
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
दोहा त्रयी. . . . शीत
दोहा त्रयी. . . . शीत
sushil sarna
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
उसने
उसने
Ranjana Verma
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
surenderpal vaidya
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
इक तमन्ना थी
इक तमन्ना थी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
#एक_और_बरसी
#एक_और_बरसी
*Author प्रणय प्रभात*
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
Neelam Sharma
The right step at right moment is the only right decision at the right occasion
The right step at right moment is the only right decision at the right occasion
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य क्या है?
सत्य क्या है?
Vandna thakur
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
*इन्टरनेट का पैक (बाल कविता)*
*इन्टरनेट का पैक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...