Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2023 · 1 min read

श्री श्री रवि शंकर जी

1.ज्ञान,ईमान,पहचान से खरा है,
ये एक व्यक्ति नहीं परम्परा है।

न कहीं अवसाद है,
पसरा आह्लाद है।
शरण में होता जो,
वह बनता प्रह्लाद है,

सिखाते ‘जीने की कला’,
दूर होती हर बला।
जीवन का लक्ष्य मिले,
जो भी इनके साथ चला।

बहुत सरल है प्रक्रिया,
सभी कर सकते पुरुष या त्रिया।
अंदर प्रकाश होता,
करें जब सुदर्शन क्रिया।

श्री गुरु देव में प्रेम सागर भरा है।
ये एक व्यक्ति नहीं परम्परा है।
*****
*****************
*****
2. देदीप्यमान सारे जग में,
गुरुदेव ने है अवतार लिया ।
मुरझाए लाखों चेहरों को,
निज प्रेम और मुस्कान दिया।

मई तेरह को सन छप्पन में,
एक सन्त जगत मेंआया है।
अनुशरण किया जिसने उसको,
आह्लादित जीवन पाया है।

सुदर्शन क्रिया करवा कर,
अंतर चानन कर देते हो।
मुश्कान की दौलत दे करके,
अवसाद सकल हर लेते हो।

‘जीने की कला’ के भंडारी,
जन सेवा तेरी कहानी है।
हरि नाम बिखेरो वसुधा पर,
जब तक सागर में पानी है।

हे!हरि प्यारे, हे!शांति दूत,
जग सदैव ऋणी तुम्हारा है।
श्री श्री जी के श्रीचरणों पर,
करबद्ध प्रणाम हमारा है।

-सतीश सृजन, लखनऊ,.

155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
They say,
They say, "Being in a relationship distracts you from your c
पूर्वार्थ
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
एक नयी शुरुआत !!
एक नयी शुरुआत !!
Rachana
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
मई दिवस
मई दिवस
Neeraj Agarwal
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
2891.*पूर्णिका*
2891.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
*प्रणय प्रभात*
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
Tulendra Yadav
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब निहत्था हुआ कर्ण
जब निहत्था हुआ कर्ण
Paras Nath Jha
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ दुआ की जाए।
कुछ दुआ की जाए।
Taj Mohammad
फलसफ़ा
फलसफ़ा
Atul "Krishn"
संग सबा के
संग सबा के
sushil sarna
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
कवि रमेशराज
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
Ramnath Sahu
*जीवित हैं तो लाभ यही है, प्रभु के गुण हम गाऍंगे (हिंदी गजल)
*जीवित हैं तो लाभ यही है, प्रभु के गुण हम गाऍंगे (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
मेरी एक सहेली है
मेरी एक सहेली है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
कहां नाराजगी से डरते हैं।
कहां नाराजगी से डरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...