Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2023 · 1 min read

जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज

जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी जीते हैं और वक़्त – बेवक़्त की अनचाही दौड़ से परे होते हैं l

अनिल कुमार गुप्ता अंजुम

1 Like · 110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
खुदा के वास्ते
खुदा के वास्ते
shabina. Naaz
आंसूओं की नमी का क्या करते
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
💜सपना हावय मोरो💜
💜सपना हावय मोरो💜
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
रोशनी की भीख
रोशनी की भीख
Shekhar Chandra Mitra
■सस्ता उपाय■
■सस्ता उपाय■
*Author प्रणय प्रभात*
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
Rohit yadav
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
"बरसात"
Dr. Kishan tandon kranti
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वाधीनता संग्राम
स्वाधीनता संग्राम
Prakash Chandra
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
2759. *पूर्णिका*
2759. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
*एक (बाल कविता)*
*एक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
शादाब रखेंगे
शादाब रखेंगे
Neelam Sharma
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
Loading...