Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2023 · 1 min read

जो लिखा नहीं…..लिखने की कोशिश में हूँ…

जो लिखा नहीं…..लिखने की कोशिश में हूँ…

मैं जज़्बात हूँ…. शब्द हाेने की काेशिश में हूँ…

विशाल बाबू ✍️✍️

572 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
Anis Shah
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
Rituraj shivem verma
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
Sunil Suman
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
"भक्त नरहरि सोनार"
Pravesh Shinde
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
चाय की घूंट और तुम्हारी गली
चाय की घूंट और तुम्हारी गली
Aman Kumar Holy
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मुक्तक
मुक्तक
Rashmi Sanjay
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
Basant Bhagawan Roy
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितना बदल रहे हैं हम
कितना बदल रहे हैं हम
Dr fauzia Naseem shad
#अहसास से उपजा शेर।
#अहसास से उपजा शेर।
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
surenderpal vaidya
*मन के राजा को नमन, मन के मनसबदार (कुंडलिया)*
*मन के राजा को नमन, मन के मनसबदार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
Loading...