Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2023 · 1 min read

जो लिखा नहीं…..लिखने की कोशिश में हूँ…

जो लिखा नहीं…..लिखने की कोशिश में हूँ…

मैं जज़्बात हूँ…. शब्द हाेने की काेशिश में हूँ…

369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
Mukesh Kumar Sonkar
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आईना
आईना
Sûrëkhâ
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खेल सारा वक्त का है _
खेल सारा वक्त का है _
Rajesh vyas
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
नाव मेरी
नाव मेरी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
Atul "Krishn"
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बांदरो
बांदरो
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
जिसके पास
जिसके पास "ग़ैरत" नाम की कोई चीज़ नहीं, उन्हें "ज़लील" होने का
*प्रणय प्रभात*
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
कृष्णकांत गुर्जर
अंधों के हाथ
अंधों के हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3130.*पूर्णिका*
3130.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सब कुछ मिट गया
सब कुछ मिट गया
Madhuyanka Raj
जब होंगे हम जुदा तो
जब होंगे हम जुदा तो
gurudeenverma198
Loading...