Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2023 · 1 min read

जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था

जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
माना वह बेहद प्यारा था. जो डूब गया सो डूब गया
अंबर के आन न को देखो कितने इसके तारे टुटे
कितने इसके प्यारे छुटे जो छुट गये फ़िर कहा मिले
पर बोलो टुटे तारो पर कब अम्बर शोक मनाता है
जो बीत गई सो बीत गई
पेड़ की डाली से पूछो कितने उसके पत्ते टूटे
जो टूट गया फ़िर कहा जुडा
जो बीत गई सो बात गई जीवन मे एक सितारा था
मा से पूछो बेटी के लिए जो दूर गई सो भूल गई
मा की ममता को ना याद किया जीवन भर कौन शोक मनाता है
जो बीत गई सो बात गई जीवन मे एक सितारा था
ऋतुराज वर्मा
प्रबंधक
सरस्वती प्राथमिक शिशु मंदिर
बहरिया प्रयागराज मो… 8953057283

2 Likes · 1 Comment · 217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
हिंदी
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
जन्मदिन तुम्हारा!
जन्मदिन तुम्हारा!
bhandari lokesh
मुझे
मुझे "विक्रम" मत समझो।
*Author प्रणय प्रभात*
*अभिनंदन उनका करें, जो हैं पलटूमार (हास्य कुंडलिया)*
*अभिनंदन उनका करें, जो हैं पलटूमार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
23/122.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/122.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
ज़िंदगी नाम बस
ज़िंदगी नाम बस
Dr fauzia Naseem shad
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
विकास की जिस सीढ़ी पर
विकास की जिस सीढ़ी पर
Bhupendra Rawat
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
विजयी
विजयी
Raju Gajbhiye
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
रास्तों पर चलने वालों को ही,
रास्तों पर चलने वालों को ही,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
कहानी - आत्मसम्मान)
कहानी - आत्मसम्मान)
rekha mohan
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
Loading...