Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2022 · 1 min read

जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां

जो बात तुझ में है,तेरी तस्वीर में कहां
****************************
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर मे कहां।
तुझसे मिलन होगा,मेरी तकदीर में कहां।।

तू है महलों की रानी,मै झोपड़ी का बाशिंदा।
तू झोपड़ी में रह सकेगी तेरे जमीर मे कहां।।

करता हूं बेपनाह मोहब्बत तुझे क्या पता।
तुझे मोहब्बत करना तेरी तासीर में कहां।।

कहता हूं जो कुछ उसे पूरा कर मै दिखाऊं।
जो कुछ कह देती है तेरी तहरीर में कहां।।

तेरी मासूमियत देखकर तुझे दिल दे बैठे थे।
जो मासूमियत चेहरे पर है वह तस्वीर मे कहां।।

ऐसा नही कि दिल में तेरी तस्वीर नही थी।
अब तू ही बता तेरा नाम मेरी लकीर में कहां।।

लिखता है रस्तोगी,जो उसके दिल में होता।
दिल की बात लिखना तेरे जमीर मे कहां।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
4 Likes · 6 Comments · 307 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोमबत्ती जब है जलती
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
Shweta Soni
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
2790. *पूर्णिका*
2790. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
बूँद-बूँद से बनता सागर,
बूँद-बूँद से बनता सागर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहानी-
कहानी- "हाजरा का बुर्क़ा ढीला है"
Dr Tabassum Jahan
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोर
भोर
Kanchan Khanna
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
डॉ० रोहित कौशिक
कोरोना काल मौत का द्वार
कोरोना काल मौत का द्वार
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-428💐
💐प्रेम कौतुक-428💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
पिता
sushil sarna
भगिनि निवेदिता
भगिनि निवेदिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
" पलास "
Pushpraj Anant
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
लिव-इन रिलेशनशिप
लिव-इन रिलेशनशिप
लक्ष्मी सिंह
Loading...