Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 3 min read

–जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है —

जो फेमस होता , वो जल्द रूखसत होता है, यह है मेरे लेख का विषय , उस में चाहे इंसान किसी भी चीज से प्रसिद्धि हांसिल करे, व्यापार में, संगीत में, नेता में, अभिनेता में, खान पान में, बहुत से उदाहरण हमारे सामने आये दिन आते रहते हैं !

पहले संगीत की दुनिआ की तरफ ही आज चलते है, हम सब ने अपनी आँखों से उन भरते हुए सितारों को इस जमीन से विदा होते देखा है, जो नाम कमाने के लिए जरा सा उभरता है, अलग अलग तरह के शिकंजे उस पर लगने लग जाते है, नाम लेने की शायद जरुरत नहीं है, आप खुद मेरे इस विषय से समझ गए होंगे, कि कितने ही लोग उभरने से पहले, दुनिआ से विदा कर दिए गए , अलग अलग तारीके से, जिस को भगवान् बुला लें, वो तो अपनी आयु पूरी कर के गया है, जिस की अभी उम्र थी, उस को निपटा दिआ गया, उस के सारे सपनों में आग लगा दी गयी, फिर कुछ दिन बाद सब धूमिल हो गया !!

दूसरा हम चलते हैं, व्यापार की तरफ, एक दूजे की सफलता को व्यापारी भी बहुत काम पचा पाते है, उस का व्यापार अच्छा क्यूँ चल रहा है, ऐसा कौन सा काम कर रहा है, इस की दूकान पर हमेशां भीड़ रहती है, समझ नहीं आता है आखिर माजरा क्या है, तरह तरह के विचार मन में आने लगते हैं, ईर्ष्या की भावना, बदले की भावना फिर दुश्मनी का रूप ले कर, वो कर देती है, जो नहीं करना चाहिए !!

तीसरा फेमस होना वो है, जो खुद इंसान हो जाता है, अक्सर ही घर का खाना नहीं खाना , बाजार की वो चीजे खानी है, जिस से कैंसर जैसी बिमारी जन्म ले लेती है, दोस्तों यारो की महफ़िल हो और बाहर की वस्तुओँ का इस्तेमाल न हो, यह तक नहीं सोचते आखिर वो खाने के लिए उपयुक्त हैं या नहीं हैं ? बस खाने से मतलब ! वो इंसान इतना खा लेता है, कि सब की नजर में उलझने सा लगता है, लोग उस को अक्सर ही बाहर खाते हुए देखते है, पर रोक तो कोई नहीं सकता है उस आवेग को, क्यूँकि वो अपने भले के हिसाब से सेवन कर रहा है, फास्ट फ़ूड, जनक फ़ूड, चाइनीज फ़ूड, मॉस, मदिरा, और न जाने क्या क्या !!

चौथा उदाहरण नेता जी के बारे में, वो फेमस होते नहीं , कर दिए जाते है, जनता के द्वारा ! कोई दादागिरी करते हुए, कोई गलत गतिविधिओं के द्वारा रातो रात इतने प्रसिद्ध हो जाते है, कि आखिर में उनका भी अंत संभव हो जाता है, अगर सामान्य तरीके से सब कुछ सही चले तो आराम से जिंदगी गुजारी जा सकती है, पर नहीं उस समय यह लोग भी घोड़े पर सवार होकर जनता पर अत्याचार करने लगते है, !!

सब जानते हैँ , कि यह सब ज्यादा समय तक नहीं चलता, फिर भी अपना नाम कमाने के चक्कर में दुनिआ को जल्द ही टाटा बाए-बाए कर जाते हैं, आजकल का जमाना वो जमाना नहीं रह गया, जब इंसानियत थी, भावना थी, दूसरे के दुःख में लोग दुखी होकर शरीक होते थे, आज जमाना बदल गया है, लोग तमाशा बना डालते है, वीडियो बनाकर सोशल साइट पर डालते है, बचाने कोई नहीं आता, और ज्यादा से ज्यादा उलझाने के लिए सब से आगे होते है !

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: लेख
318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
विकास सैनी The Poet
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
Shashi kala vyas
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
आज़ाद पंछी
आज़ाद पंछी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
Ravi Prakash
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
Kirti Aphale
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
Ritu Asooja
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
"उदास सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
gurudeenverma198
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
ड्यूटी और संतुष्टि
ड्यूटी और संतुष्टि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
चुनिंदा अशआर
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
भरत कुमार सोलंकी
कौन याद दिलाएगा शक्ति
कौन याद दिलाएगा शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...