Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

जो कहोगे-जो करोगे वापिस मिलेगा सौ-गुना

खुद के बनाए ज़ाल में यूँ उलझकर रह गए
दर्द सारे दिल के मेरे अश्क बनकर बह गए

हम खड़े रह भी गए घाट पर तो क्या हुआ
वक्त की रफ़्तार में तो दरिया सारे बह गए

हमने सीखा ना सिखाया बुजुर्गों की छाँव में
अब तलक छत वो रहे फिर खंडहर-से ढह गए

पंछियों ने सीख ली माँ-बाप से अठखेलियाँ
मूढ़ थे हम बेकदर माँ-बाप फिर भी सह गए

जो कहोगे-जो करोगे वापिस मिलेगा सौ-गुना
क्या मिला, सोंचो जरा, क्या बिजते रह गए?

@आनंद बिहारी

5 Comments · 425 Views
You may also like:
तेरे रूप अनेक हैं मैया - देवी गीत
Ashish Kumar
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्रेम का फिर कष्ट क्यों यह, पर्वतों सा लग रहा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
जीवन उत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*आइए स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करें (घनाक्षरी : सिंह विलोकित...
Ravi Prakash
✍️आसमाँ के परिंदे ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पेन-गन (क़लम-बंदूक)
Shekhar Chandra Mitra
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
गुलशन के हर फूल को।
Taj Mohammad
माँ की ममता
gurudeenverma198
✍️ते मोगऱ्याचे झाड होते✍️
'अशांत' शेखर
तुम्हारी यादें
Dr. Sunita Singh
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
पता नहीं
shabina. Naaz
इससे बड़ा हादसा क्या
कवि दीपक बवेजा
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
Writing Challenge- साहस (Courage)
Sahityapedia
फिर भी नदियां बहती है
जगदीश लववंशी
केंचुआ
Buddha Prakash
बंधन
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
Loading...