Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2019 · 1 min read

जेह् न में कैद किया तुझको तज़क्कुर करके

ग़ज़ल – (बह्र-रमल मुसम्मन मख़्बून महज़ूफ)

ज़ेह्न में कैद किया तुझको तज़क्कुर* करके।(स्मरण)
अब तो कर लेता हूँ दीदार तसव्वुर* करके।।(कल्पना)

जिंदगी रब ने अता की है मुहब्बत के लिए।
यूं न बरबाद इसे कर तू तनफ्फुर* करके।।(नफ़रत )

मैने तो फ़र्ज निभाया है समझकर अपना।
तू न बेग़ाना बना मुझको तश्क्कुर* करके।।(आभार)

अपने बंदो की वो फरयाद सुना करता है।
तू ख़ुदा से तो ज़रा माँग तअव्वुर* करके।।(याचना)

जीत लेते जो एज़ाइम* से समंदर भी “अनीस”।(दृढ़ इरादे)
डूब जाते हैं किनारों पे तकब्बुर* करके।।(घमंड)

– © अनीस शाह “अनीस”

1 Like · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बखान सका है कौन
बखान सका है कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
#शब्द_सुमन
#शब्द_सुमन
*प्रणय प्रभात*
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता
Mukesh Kumar Sonkar
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
बेरोजगारी
बेरोजगारी
पंकज कुमार कर्ण
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
2791. *पूर्णिका*
2791. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
शेखर सिंह
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कभी भ्रम में मत जाना।
कभी भ्रम में मत जाना।
surenderpal vaidya
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...