Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 1 min read

जुर्म किसका था

जुर्म किसका था, मिली किसको सज़ा रहने दो .
किसको होना था, हुआ कौन रिहा, रहने दो..

दफ़्न मुझमें हैं कई ख़्वाब अज़ल से लेकिन ,
मेरी आँखों में उमीदों का दिया रहने दो ..

ज़िन्दगी मेरी किसी और के हिस्से की थी .
किसके हाथों से मिली मुझको क़ज़ा रहने दो..

खो न जाऊँ मैं कहीं भीड़ भरी दुनिया में.
मेरा चेहरा है मेरा, इसको मेरा रहने दो ..

दौर ए ग़र्दिश में मेरे दिल को तसल्ली मिलती..
उसकी चौखट पे मेरा सर ये झुका रहने दो..

जिस्म मिट्टी का लिए मैं हूँ पड़ा दरिया में ..
मेरे होंठों पे मगर हर्फ़ ए दुआ रहने दो..

मैंने रक्खी ही कहाँ आस वफ़ा की इससे,
मुझसे दुनिया ये ख़फ़ा है तो ख़फ़ा रहने दो..

आबले पाँवों में चेहरे पे शिकन भी लेकिन.
मेरी धड़कन में ” नज़र” नामे ख़ुदा रहने दो..

Nazar Dwivedi

1 Comment · 242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
किस्सा कुर्सी का - राज करने का
किस्सा कुर्सी का - राज करने का "राज"
Atul "Krishn"
आकाश मेरे ऊपर
आकाश मेरे ऊपर
Shweta Soni
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■सामान संहिता■
■सामान संहिता■
*प्रणय प्रभात*
*खाना तंबाकू नहीं, कर लो प्रण यह आज (कुंडलिया)*
*खाना तंबाकू नहीं, कर लो प्रण यह आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
The_dk_poetry
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विषय:- विजयी इतिहास हमारा। विधा:- गीत(छंद मुक्त)
विषय:- विजयी इतिहास हमारा। विधा:- गीत(छंद मुक्त)
Neelam Sharma
*हे शारदे मां*
*हे शारदे मां*
Dr. Priya Gupta
पाती पढ़कर मीत की,
पाती पढ़कर मीत की,
sushil sarna
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
बात का जबाब बात है
बात का जबाब बात है
शेखर सिंह
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
न मां पर लिखने की क्षमता है
न मां पर लिखने की क्षमता है
पूर्वार्थ
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज भी अधूरा है
आज भी अधूरा है
Pratibha Pandey
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“गुरु और शिष्य”
“गुरु और शिष्य”
DrLakshman Jha Parimal
तस्वीरों में तुम उतनी कैद नहीं होती हो,
तस्वीरों में तुम उतनी कैद नहीं होती हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
"तू है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...