Sep 24, 2016 · 2 min read

जुमलो का ये दौर

पाठको की खामोशी के कारण लौट गया था,
किन्तु में ज्यादे खामोश नहीं रह पाता l
प्रस्तुत है हास्य मनोरम व्यंग नमो नमो

जुमलो का दौर चल पड़ा,हो रही जुमलो की बरसात,
कौन पाक वो ? कौन चीन है ? कौन हे वो
पुतीन ?
कोन बोल रहा ? कौन मांग रहा हमसे हमारा कश्मीर,
कश्मीर की जो बात करोगे लेंगे बलूच को हम छीन ll
जुमलो की बरसात हो रही जुमलो के ये तीर ll

?
(^_^)

⏬अह्म ब्राह्मास्मि ⏬
?
बिन मौसम बरसात में लाऊं,बिन बादल पानी बरसाऊ,
हाथ में उनके हाथ डालकर, पाक में मैं बिरयानी खाऊ,
सराफत से साडी मंगवाऊ उन्हें साल में भेट चढ़ाऊँ,
तब जाके भीरु भक्तो में मैं शेर,शेर और शेर कहाँऊ,

छप्पन का सीना ताने जो लाल किले पर जम जाऊं,
कश्मीर की वो बात करें तो,बलूच का डर दिखलाऊँ,
घर में घुस बैठे आतंकी तो, फ़ौरन ट्वीट भी कर आऊं,
जो लहूलुहान हो सीमा तो मगर के आंसू भी बहाऊ,
तब जाके हे आर्य श्रेष्ठ में देश का नेता कहलाऊँ,

डिजटल इंडिया,स्मार्ट सिटी मै जन जन को समझाऊ,
करोनो-अरबो खा कर बैठे,मै उनका प्रचारक बन जाऊं,
4G के नाम पर तब में 2G से डिजिटल देेश बनाऊं,
सब्सीडी के हानि लाभ को में तुमको समझाऊ,
जो सब्सीडी पर जीवन जीते उन्हें दीन-हीन बतलाऊँ,
तब जाके हे आर्य महान विकास पुरुष में कहलाऊँ ll

दिल्ली मंत्री करे कुकर्म, गला फाड़ – फाड़ में चिल्लाऊं,
खुद के खोटे सिक्के को में क्लीन चिट भी दिलवाऊ,
फिर कहे भक्क्त मुझे,तुम्हे प्रणाम तुम्हे प्रणाम,
हर भारत वासी तब सोचे काश में भी नेता बन पाऊ,

II मृदुल चंद्र श्रीवास्तव ll

121 Views
You may also like:
सीख
Pakhi Jain
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
मन की मुराद
मनोज कर्ण
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
पिता का पता
श्री रमण
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
बुलबुला
मनोज शर्मा
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
Loading...