#29 Trending Author
May 14, 2022 · 1 min read

जी हाँ, मैं

रचना चाहता हूँ मैं,
एक ऐतिहासिक पवित्र दर्शन,
गौरवान्वित एक सत्य,
अकंलक एक प्रतिष्ठा,
अपनी नई रचना में।

महकाना चाहता हूँ मैं,
एक फूल मेरी वाटिका में,
तरु की तरह सींचकर,
अपने खून-पसीने से,
अपने इस जीवन में।

दिलाना चाहता हूँ मैं,
उसको इज्जत और कीर्ति,
महानुभावों एवं सन्तों से,
सृष्टि के सृजनकर्ता से,
हर महफ़िल- सभा में।

बैठाना चाहता हूँ मैं,
उसको अपनी पलकों पर,
मोहब्बत की मूरत बनाकर,
एक स्वच्छ निर्मल बिम्ब स्वरूप,
सुसंस्कृत सभ्य स्त्री के रूप में।

इस जमीं पर उसको,
एक अमर कृति के रूप में,
वर्तमान में और भविष्य के लिए,
अमर करना चाहता हूँ मैं,
अपनी लेखनी से उसको,
जी हाँ, मैं।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

1 Like · 38 Views
You may also like:
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
कामयाबी
डी. के. निवातिया
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
Crumbling Wall
Manisha Manjari
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...