Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2022 · 1 min read

जी हाँ, मैं

रचना चाहता हूँ मैं,
एक ऐतिहासिक पवित्र दर्शन,
गौरवान्वित एक सत्य,
अकंलक एक प्रतिष्ठा,
अपनी नई रचना में।

महकाना चाहता हूँ मैं,
एक फूल मेरी वाटिका में,
तरु की तरह सींचकर,
अपने खून-पसीने से,
अपने इस जीवन में।

दिलाना चाहता हूँ मैं,
उसको इज्जत और कीर्ति,
महानुभावों एवं सन्तों से,
सृष्टि के सृजनकर्ता से,
हर महफ़िल- सभा में।

बैठाना चाहता हूँ मैं,
उसको अपनी पलकों पर,
मोहब्बत की मूरत बनाकर,
एक स्वच्छ निर्मल बिम्ब स्वरूप,
सुसंस्कृत सभ्य स्त्री के रूप में।

इस जमीं पर उसको,
एक अमर कृति के रूप में,
वर्तमान में और भविष्य के लिए,
अमर करना चाहता हूँ मैं,
अपनी लेखनी से उसको,
जी हाँ, मैं।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
VINOD CHAUHAN
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
Kirti Aphale
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"" *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* ""
सुनीलानंद महंत
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
पिछले पन्ने 3
पिछले पन्ने 3
Paras Nath Jha
सुनें   सभी   सनातनी
सुनें सभी सनातनी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
आर.एस. 'प्रीतम'
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
*प्रणय प्रभात*
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
दिखाने लगे
दिखाने लगे
surenderpal vaidya
जीवन दया का
जीवन दया का
Dr fauzia Naseem shad
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
2708.*पूर्णिका*
2708.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बकरा नदी अररिया में
बकरा नदी अररिया में
Dhirendra Singh
*दादाजी (बाल कविता)*
*दादाजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
manjula chauhan
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Anamika Tiwari 'annpurna '
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
Shreedhar
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
पछतावा
पछतावा
Dipak Kumar "Girja"
सफ़र जिंदगी का (कविता)
सफ़र जिंदगी का (कविता)
Indu Singh
"प्रवास"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...