Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

*जी लो ये पल*

क्यों सोचता है इंसान बरसों का
जब पता नहीं है उसे परसों का
अगले ही पल क्या होगा, कोई जानता नहीं
क्या करना फिर सोचकर बरसों का

क्यों याद करता है इंसान बीती बातों को
जब पता है उसे वो अब बदलेंगी नहीं
उन्हें याद करता रह गया तो
जो ज़िंदगी बाकी है वो भी रहेगी नहीं

वर्तमान ही जीवन है ये भूलना नहीं
सवांरेगा यही कल हमारा ये भूलना नहीं
सपनों के महल कुछ करके ही बन पाएंगे
बिना डाले तवे पर रोटी भी पकती नहीं

क्यों करें चिंता फिर भविष्य की हम
दुख मनाकर पुरानी बातों का भी कुछ होगा नहीं
जियें खुशी से जो पल मिले हैं हमें मानकर ये,
मिला है जो हमें उससे बेहतर कुछ होगा नहीं

है जीवन की खुशी तो पास तेरे
उसे इधर उधर तू ढूंढना नहीं
आ जाए कभी मुसीबत भी अगर
सामना करना उसका, तू आंखें मूंदना नहीं

तेरा हौंसला ही है ताकत तेरी
तू कभी अपना हौंसला छोड़ना नहीं
आएंगे कई इम्तिहान इस जीवन में
तू कभी अपनों का साथ छोड़ना नहीं

जी लो ये पल जो मिले हैं अभी
कल का तो किसी ने देखा नहीं
लौटा दे तुम्हें बीते हुए लम्हें भी
किसी के हाथ में ऐसी तो रेखा नहीं।

3 Likes · 1787 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दादा जी
दादा जी
BINDESH KUMAR JHA
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पूरी कर  दी  आस  है, मोदी  की  सरकार
पूरी कर दी आस है, मोदी की सरकार
Anil Mishra Prahari
"रंग अनोखा पानी का"
Dr. Kishan tandon kranti
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
*
*"मजदूर की दो जून रोटी"*
Shashi kala vyas
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
समाजों से सियासत तक पहुंची
समाजों से सियासत तक पहुंची "नाता परम्परा।" आज इसके, कल उसके
*Author प्रणय प्रभात*
बड़े हौसले से है परवाज करता,
बड़े हौसले से है परवाज करता,
Satish Srijan
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संगति
संगति
Buddha Prakash
देख स्वप्न सी उर्वशी,
देख स्वप्न सी उर्वशी,
sushil sarna
खेलों का महत्व
खेलों का महत्व
विजय कुमार अग्रवाल
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
पूर्वार्थ
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
सिर्फ तुम्हारे खातिर
सिर्फ तुम्हारे खातिर
gurudeenverma198
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
आपस की दूरी
आपस की दूरी
Paras Nath Jha
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
Loading...