Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

जी उठती हूं…तड़प उठती हूं…

जी उठती हूं, तड़प उठती हूं..

तू आता है मेरे, जब ख्वाब में,
जी उठती हूं पल दो पल के लिए।
छू जाता है मुझे, जब यादों में
तड़प उठती हूं तुझे पाने के लिए।।

#seematuhaina

7 Likes · 3 Comments · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
Taj Mohammad
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
gurudeenverma198
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
AVINASH (Avi...) MEHRA
👨‍🎓मेरा खाली मटका माइंड
👨‍🎓मेरा खाली मटका माइंड
Ms.Ankit Halke jha
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
"मेरा भोला बाबा"
Dr Meenu Poonia
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
ये नज़रें
ये नज़रें
Shyam Sundar Subramanian
ख़िराज-ए-अक़ीदत
ख़िराज-ए-अक़ीदत
Shekhar Chandra Mitra
जो सुनना चाहता है
जो सुनना चाहता है
Yogendra Chaturwedi
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
*मालिक अपना एक : पॉंच दोहे*
*मालिक अपना एक : पॉंच दोहे*
Ravi Prakash
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
#नया_भारत 😊😊
#नया_भारत 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
तिरंगा
तिरंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
Loading...