Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2024 · 1 min read

जीवन सुंदर गात

साधन से कब आदमी, बनता बड़ा महान।
करके सच्ची साधना, सचमुच श्रेष्ठ सुजान।।1

भवन बना कर के बड़ा, करिये मत अभिमान।
प्रेम भावना हो अगर, मिले मान-सम्मान।।2

उच्चारण आता नहीं, दुख की बात न तात।
उच्च आचरण हो अगर, सही पते की बात।।3

जीवन में यह सत्य है, गिरते बिना प्रयास।
ऊँचा उठना हो अगर, करिये कोशिश खास।।4

कुछ बातें लगती नहीं, हरदम सबको सत्य।
सोच समझ व समय पर, दिखतीं सत्यासत्य।।5

होती है किरदार की, कदर जानिए मित्र।
वैसे कोई भी बड़ा, बनवा सकता चित्र।।6

हों जरूरतें पूर्ण सब, कोशिश करिये आप।
इच्छाएँ कुछ छोड़िये, जीवन सुंदर गात।।7

कौशल

Language: Hindi
37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
कवि दीपक बवेजा
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
डॉ. दीपक मेवाती
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
Anamika Tiwari 'annpurna '
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
*धारा सत्तर तीन सौ, अब अतीत का काल (कुंडलिया)*
*धारा सत्तर तीन सौ, अब अतीत का काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
Vishvendra arya
तेरे बिना
तेरे बिना
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
अनिल कुमार
3033.*पूर्णिका*
3033.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
,,
,,
Sonit Parjapati
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
चिंतन करत मन भाग्य का
चिंतन करत मन भाग्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
Basant Bhagawan Roy
किसने तेरा साथ दिया है
किसने तेरा साथ दिया है
gurudeenverma198
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
गर लिखने का सलीका चाहिए।
गर लिखने का सलीका चाहिए।
Dr. ADITYA BHARTI
💐प्रेम कौतुक-547💐
💐प्रेम कौतुक-547💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
Taj Mohammad
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
Loading...