Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 2 min read

जीवन साथी

जीवन साथी है वो मेरी,
साथ हमेशा रहती है
सुख हो या हो दुःख के दिन,
पास सदा वो रहती है

साथ फेरों का बंधन बांधे,
घर मेरे जब आई थी
खुद से पैसे बच ना पाते,
बस इतनी मेरी कमाई थी

घर आई वो साथ में अपने,
ढेरों खुशियां ले आयी
मेरे मन के अंधियारे को,
दूर किसी को दे आयी

टूटा फूटा डेरा मेरा,
सबकुछ उसने अपनाया
दो दिन में ही उस डेरे को,
महलों जैसा मैंने पाया

बिखरा बिखरा जीवन मेरा,
जैसे तैसे चलता था
कभी यहाँ पर कभी वहाँ पर,
युहीं समय फिसलता था

मुझे लगा ये पागलपन है,
ऐसे प्यार क्या होता है?
दो दिल पल में एक हो गए,
क्या ऐसे मन खोता है?

अब तक मैंने इस रिश्ते के,
मतलब को ना जाना था
बड़ा ही मुश्किल बंधन ये है,
बस मैंने ये माना था

उसने मुझको गले लगा कर,
प्यार का मतलब सिखलाया
नाता है यह जीवन भर का,
उसने मुझको बतलाया

सौंप के अपना तन-मन मुझको,
सबकुछ मुझपर वार दिया
आँखे मूंदे बिना स्वार्थ के,
उसने मुझको प्यार दिया

मैं उसके जज्बात के आगे,
सबकुछ अपना हार गया
तब जाकर दिल ने ये माना,
मैंने उसको प्यार किया

खुशियाँ थी तो साथ हँसी,
हर दुःख में साथ वो रोई थी
उलझन में जो मैं पर जाऊँ,
वो पूरी रात न सोइ थी

मेरे कारण देवों को वो,
हरदम घेरे रहती है
जीवन भर ये साथ न छूटे,
मन ही मन ये कहती है

शाम को जबतक मैं ना लौटूं,
राह ताकती रहती है
कभी घडी पर कभी गली में,
उसकी नज़रें रहती है

ज़रा देर जो हुई नहीं बस,
गुस्से से भर जाती हैं
दूर से मेरी आहट पाकर,
मंद-मंद मुस्काती है

दो फूल है अपने बगिया में,
जिनको इसने सींचा हैं
मेरे जीवन की बग्घी को,
इसने ही तो खींचा है

उसके मन के हर कोने को,
मैंने झाँक के देखा है
बस मैं ही जीवन हूँ उसका,
वो मेरे हाथों की रेखा है

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
10) पूछा फूल से..
10) पूछा फूल से..
पूनम झा 'प्रथमा'
सीखने की भूख (Hunger of Learn)
सीखने की भूख (Hunger of Learn)
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फल का राजा जानिए , मीठा - मीठा आम(कुंडलिया)
फल का राजा जानिए , मीठा - मीठा आम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
*Author प्रणय प्रभात*
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
Vijay kumar Pandey
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी तुझको सलाम
जिंदगी तुझको सलाम
gurudeenverma198
भक्त गोरा कुम्हार
भक्त गोरा कुम्हार
Pravesh Shinde
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
Anil Mishra Prahari
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
Ravi Ghayal
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो सबके साथ आ रही थी
वो सबके साथ आ रही थी
Keshav kishor Kumar
गंवई गांव के गोठ
गंवई गांव के गोठ
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
मातु भवानी
मातु भवानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
गलतियां
गलतियां
Dr Parveen Thakur
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
छल.....
छल.....
sushil sarna
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...