Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2016 · 1 min read

जीवन सत्य

हुआ प्रस्थान बचपन का हुआ आगाज यौवन का
यहीं प्रारंभ होता है यहीं परिवार-उपवन का।
बुढ़ापे के लिए रखते कमाई मान धन सेवा
यहीं फिर खत्म होता है सभी कुछ खेल जीवन का।

Language: Hindi
513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bhaurao Mahant
View all
You may also like:
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
"फर्क"-दोनों में है जीवन
Dr. Kishan tandon kranti
मजदूर की अन्तर्व्यथा
मजदूर की अन्तर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
Mukesh Jeevanand
Book of the day: धागे (काव्य संग्रह)
Book of the day: धागे (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
💐अज्ञात के प्रति-36💐
💐अज्ञात के प्रति-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
Ashish shukla
विचार
विचार
Jyoti Khari
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद का दिया जलाए रखो
उम्मीद का दिया जलाए रखो
Kapil rani (vocational teacher in haryana)
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
*रोज बदलते मंत्री-अफसर,बाबू सदाबहार 【हास्य गीत】*
*रोज बदलते मंत्री-अफसर,बाबू सदाबहार 【हास्य गीत】*
Ravi Prakash
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
नहीं, बिल्कुल नहीं
नहीं, बिल्कुल नहीं
gurudeenverma198
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
नानी की कहानी होती,
नानी की कहानी होती,
Satish Srijan
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक दूसरे से बतियाएं
एक दूसरे से बतियाएं
surenderpal vaidya
बरसात की रात
बरसात की रात
Surinder blackpen
हम रंगों से सजे है
हम रंगों से सजे है
'अशांत' शेखर
तुम न आये मगर..
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
Dr.Khedu Bharti
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...