Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

जीवन संघर्ष

जीवन संघर्ष
पल पल गुजर रहे दिन महीने वर्ष ।
प्रेम से रहें तो जीवन बड़ा ही सहर्ष ।।
क्षमता से ज्यादा आकांक्षाएं पाली तो।
हो जाता है शुरू कठिन जीवन संघर्ष ।।
– ओमप्रकाश भार्गव, पिपरिया

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रकृति
प्रकृति
नवीन जोशी 'नवल'
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
धन्य होता हर व्यक्ति
धन्य होता हर व्यक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*जानो कछुआ देवता, हुआ कूर्म-अवतार (कुंडलिया)*
*जानो कछुआ देवता, हुआ कूर्म-अवतार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल
आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
असफलता का जश्न
असफलता का जश्न
Dr. Kishan tandon kranti
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
नैन
नैन
TARAN VERMA
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
Anamika Tiwari 'annpurna '
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
हवस
हवस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
तुम्हे वक्त बदलना है,
तुम्हे वक्त बदलना है,
Neelam
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
gurudeenverma198
भव- बन्धन
भव- बन्धन
Dr. Upasana Pandey
🤔कौन हो तुम.....🤔
🤔कौन हो तुम.....🤔
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Loading...