Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2018 · 1 min read

जीवन संगीत

जीवन संगीत
**************
सुंदर सुमन के उपवन में
मधुपों का गुंजन करना
नीले नभ में निर्भीक हो
पंछी का कलरव करना
इससे भी संगीत निकल कर आता है
मानव जीवन को झंकृत कर जाता है।

टिप – टिप वसुधा पर
वर्षा बूंदों का गिरना
झुरमुट में पवन के संग
हिलना बांसों का भिड़ना
इससे भी संगीत निकल कर आता है
मानव जीवन को झंकृत कर जाता है

वन उपवन की खामोशी
तोड़ पवन का सनसनाना
वसंत ऋतु में कोयल का
कु कु कर मधुरिम गाना
इससे भी संगीत निकल कर आता है
मानव जीवन को झंकृत कर जाता है

सस्नेह दुध पिलाते
गायों का वह रम्भाना
नदियों की बहती धारा का
स्वर कलकल वह सुहाना
इससे भी संगीत निकल कर आता है
मानव जीवन को झंकृत कर जाता है।

बैलों के गरदन में बांधी
वह छोटी सी घंटी
तबले पर सुर ताल सजाता
अलगु चाचा का बंटी
इससे भी संगीत निकल कर आता है
मानव जीवन को झंकृत कर जाता है

बारिश में उस मेघ दामिनि
का तड़- तड़ तड़तड़ाना
वर्षा काल में पिले मेढ़क
का ऊचें स्वर में टरटराना
इससे भी संगीत निकल कर आता है
मानव जीवन को झंकृत कर जाता है
……………..✒?
पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार……८४५४५५

Language: Hindi
206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
जहाँ में किसी का सहारा न था
जहाँ में किसी का सहारा न था
Anis Shah
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
Slok maurya "umang"
क़त्आ
क़त्आ
*प्रणय प्रभात*
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बुद्ध पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा
Dr.Pratibha Prakash
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
एक कुंडलियां छंद-
एक कुंडलियां छंद-
Vijay kumar Pandey
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"दो मीठे बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*How to handle Life*
*How to handle Life*
Poonam Matia
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
आखिर कब तक ?
आखिर कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
छलिया तो देता सदा,
छलिया तो देता सदा,
sushil sarna
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इसकी वजह हो तुम, खता मेरी नहीं
इसकी वजह हो तुम, खता मेरी नहीं
gurudeenverma198
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
*दिल का दर्द*
*दिल का दर्द*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
Loading...