Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2022 · 1 min read

जीवन व्यर्थ नही है

जीवन की जटिलताओं से,
जो बिल्कुल ना घबराता है,
दृढ़ संकल्प कर मन में,
जो लक्ष्य को अपने पाता है,
उसे हार और जीत से फिर,
पड़ता कोई फर्क नही है
खुद को तुम पहिचानों,
ये जीवन व्यर्थ नही है ।।

मानव हो तो मानवता के,
साथ खड़े हो जाना,
कभी किसी के नैनो का,
तुम नीर नही बन जाना,
सब पर दया करो सदा,
सब पर ही प्रेम लुटाना,
हर उदास चहेरे पर तुम,
सुंदर मुस्कान सजाना,
अपने लिए जीए अगर,
जीवन का कोई अर्थ नहीं है ।।

खुद को तुम पहिचनो,
ये जीवन व्यर्थ नही है

3 Likes · 2 Comments · 214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं हरि नाम जाप हूं।
मैं हरि नाम जाप हूं।
शक्ति राव मणि
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कुछ तो खास है उसमें।
कुछ तो खास है उसमें।
Taj Mohammad
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Mukesh Kumar Sonkar
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
2764. *पूर्णिका*
2764. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
....नया मोड़
....नया मोड़
Naushaba Suriya
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
*शादी के खर्चे (कुंडलिया)*
*शादी के खर्चे (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
पूर्वार्थ
ख़्वाब कोई कहां मुकम्मल था
ख़्वाब कोई कहां मुकम्मल था
Dr fauzia Naseem shad
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
लक्ष्मी सिंह
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
कुंठाओं के दलदल में,
कुंठाओं के दलदल में,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
🌹🌹हर्ट हैकर, हर्ट हैकर,हर्ट हैकर🌹🌹
🌹🌹हर्ट हैकर, हर्ट हैकर,हर्ट हैकर🌹🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
🪷पुष्प🪷
🪷पुष्प🪷
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
क़ुसूरवार
क़ुसूरवार
Shyam Sundar Subramanian
छल.....
छल.....
sushil sarna
Loading...