Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2023 · 1 min read

सफलता

जीवन में सफल होने के लिए आवश्यक है कि बार-बार की असफलता के बावजूद भी मन में थोड़ी बहुत ही सही, लेकिन सफलता की आस बची हो।

पारस नाथ झा

237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
आदमी की आँख
आदमी की आँख
Dr. Kishan tandon kranti
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता
कविता
Neelam Sharma
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
पंकज कुमार कर्ण
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
शेखर सिंह
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किताब कहीं खो गया
किताब कहीं खो गया
Shweta Soni
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यारो हम तो आज भी
यारो हम तो आज भी
Sunil Maheshwari
शरणागति
शरणागति
Dr. Upasana Pandey
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
संवेदनाओं का भव्य संसार
संवेदनाओं का भव्य संसार
Ritu Asooja
राम प्यारे हनुमान रे।
राम प्यारे हनुमान रे।
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
सत्य की खोज........एक संन्यासी
सत्य की खोज........एक संन्यासी
Neeraj Agarwal
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...