Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 2 min read

जीवन मार्ग आसान है…!!!!

जीवन मार्ग आसान है…
मुस्कुराते रहो –
क्योंकि जीवन का अर्थ ये नन्ही- सी मुस्कान है…
जीवन मार्ग आसान है।।
कहीं पर एक माँ बिता देती है अपना जीवन त्याग में…
कहीं पर कोई पछताता है ग्लानि की आग में।।
कहीं जगत में –
संकीर्ण सोच के कारणवश,
किसी कोख में लड़ती मृत्यु से नन्ही- जान अकेली है…
और कहीं उलझन के चक्रव्यूह में फंसा हुआ कोई,
जिसके लिए जिंदगी मात्र एक पहेली है।।
कहीं किसी का जीवन हो गया है दुश्वार…
कहीं किसी के हदय पर हो रहे हैं वार पर वार।।
आत्महत्या कर रहा है कहीं पर कोई मासूम…
जो अनभिज्ञ जीवन से, नहीं सही ग़लत का मालूम।।
कहीं किसी के जीवन में, जिंदगी- मौत के होते रहते हैं इम्तिहान…
और कहीं खेल रहा होता है किसी के जीवन से कोई हैवान।।
कहीं पर वृद्ध माता-पिता लाचार हैं…
कहीं शोषण होता है बच्चों का –
करते कुछ लोग ऐसा घ्रणित व्यवहार है।।
किसी के अपने हमेशा के लिए हो गए अलविदा…
कहीं पर बच्चों के बचपन रोजगार कि खातिर हो गए हमेशा के लिए गुमशुदा।।
फिर क्यों सोचते हैं हम –
बुरा सिर्फ़ हमारे साथ हुआ है…
मात्र हमी पर प्रकृति का ये क्रूर आघात हुआ है।।
ईश्वरीय शक्ति न सिर्फ़ लेती है हमारी परीक्षा…
बल्कि इससे ये जीवन सत्य की देती है हमको शिक्षा।।
ऐसी ना जाने कितनी होंगी व्यथाएँ…
जिनकी हम सभी ने सुनी होंगी कथाएँ।।
जो सर्दी की रातों में सड़कों पर सोते हैं…
जो एक रूखी रोटी की खातिर बिलख- बिलख कर रोते हैं।।
कहते हैं जो, जी दर्द बहुत है जीवन में –
उनके पास है क्या इनके दर्दों का हिसाब…
पूछो अपने अंतर्मन से, है कोई जवाब।।
अब ना कहना, दर्द हमारे जीवन में हैं…
खुश हो जाओ ईश्वर का आशीर्वाद हमारे आंगन में है।।
कुछ ऐसे मानव है जग में, जो कि भूख से पीड़ित है…
दर्द क्या है उनसे पूछो, जिनके जीवन में ऐसी तकलीफें भी निहित हैं।।
अजी जीवन का संग्राम तो तब पता चलेगा…
जब स्वयं के सर पर न होगी छत –
निश्चित है, कह डालोगे…
ईश्वर हो गयी अब तो हद।।
इसीलिए अब ईश्वर से शिकायत मत ही करना –
बस सोच लो, जो भी है हम खुश हैं और यह पर्याप्त है…
वरना तो जिंदगियाँ ऐसी भी हैं –
जिनके जीवन में शोषण है और कुछ इस तरह के दुःख व्याप्त है।।
इसीलिए मुस्कुराहट का करना होगा सृजन…
फ़िर दुःखों में भी खिल उठेगा मन।।
कुछ जिंदगियाँ बसी हुई तो, हैं कुछ विरान…
ईश्वर ने रचा ऐसा ये जहान।।
कुछ ऐसे प्राणी हैं जो, बिखरकर फ़िर संवरते हैं…
कुछ ऐसे प्राणी भी है जो, संघर्षों से और निखरते हैं।।
जीवन मार्ग आसान है…
मुस्कुराते रहो –
क्योंकि जीवन का अर्थ यह नन्ही सी मुस्कान है…
और कहो दिल से,
हमारा जीवन मार्ग सचमें बहुत आसान है।।।।
-ज्योति खारी

Language: Hindi
11 Likes · 13 Comments · 385 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
💐
💐
*Author प्रणय प्रभात*
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
Anil chobisa
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
!!! नानी जी !!!
!!! नानी जी !!!
जगदीश लववंशी
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
मत याद करो बीते पल को
मत याद करो बीते पल को
Surya Barman
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
उसे मलाल न हो
उसे मलाल न हो
Dr fauzia Naseem shad
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
शातिरपने की गुत्थियां
शातिरपने की गुत्थियां
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कवि दीपक बवेजा
"एक बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
Sarita Pandey
भारत का फौजी जवान
भारत का फौजी जवान
Satish Srijan
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटी से प्यार करो
बेटी से प्यार करो
Neeraj Agarwal
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sakshi Tripathi
Loading...