Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 1 min read

*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक

*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेकिन सीधा नही है ,कभी ऊबड़ खाबड़ टेढे मेढे रास्ते मिलते हैं।नाकामयाबी हाथ लगे असफलता मिले तो मन में अंदर से कोई प्रतिरोध ना हो।
ऐसे वक्त में अपना दृष्टिकोण अच्छा होता है कि स्वयं को याद दिलाएं कि नवीन कार्य करने में देरी हो सकती है परंतु आपको इससे वंचित नहीं किया जाएगा।
अपने सृजन को श्रेष्ठता हासिल करने के लिए सब कुछ किया लेकिन आखिरी व्यक्ति सही फैसला लेने में अलग अलग दिशाओं में उजागर होती है।सही गलत कुछ नहीं होता जो भी भीतर से सही लगे वही सृजन कीजिए।
शशिकला व्यास शिल्पी✍️

1 Like · 336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
रहता हूँ  ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
रहता हूँ ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
Mohd Anas
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🙅DNA REPORT🙅
🙅DNA REPORT🙅
*प्रणय प्रभात*
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2936.*पूर्णिका*
2936.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम कवियों की पूँजी
हम कवियों की पूँजी
आकाश महेशपुरी
*मीठे बोल*
*मीठे बोल*
Poonam Matia
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
नेताम आर सी
कितना अजीब ये किशोरावस्था
कितना अजीब ये किशोरावस्था
Pramila sultan
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
"मैं और तू"
Dr. Kishan tandon kranti
बुंदेली_मुकरियाँ
बुंदेली_मुकरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
जहरीले और चाटुकार  ख़बर नवीस
जहरीले और चाटुकार ख़बर नवीस
Atul "Krishn"
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मां शैलपुत्री
मां शैलपुत्री
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...