Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

जीवन क्या है ??

जीवन क्या है ??
बचपन
जवानी
बुढ़ापा

तीन अंशों में गुजरता
अपनी विचार धाराओं पे
दूसरी के अधिकार
में पनपता
और खुद पर हावी
होता समाज
बचपन माँ की आगोश में
कब गुजर गया
जवानी आई
बहुत कुछ लाई
मन प्रफुल, साथ में
जिमेवारी का एहसास
कुछ करने का मन
समय बिता तो
माँ गुजरी, तो
पत्नी ने स्थान लिया
जब बाप बना तो बाप
ने संसार छोड़ दिया
आज, खुद बाप
और घर का
पल पल एहसास
खुद पर अंकुश
लगता परिवार
बन्धन का जीवन
मन खुश रहना
भी चाहे, तो
बस नजर आता
बुढ़ापे का स्थान
और फिर एक दिन
गुजरता हुआ
पल पल, मिटता बजूद
और बहुत बहुत दूर
चार कंधो पर जाता
हुआ शमशान
छोड़ कर सारा जहाँ
अकेला आया, अकेला गया
वाह मेरे भगवान्
वाह मेरे हरी राम
तूं सच है
“”महान”””

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
410 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
आर.एस. 'प्रीतम'
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
आज़ादी की जंग में यूं कूदा पंजाब
आज़ादी की जंग में यूं कूदा पंजाब
कवि रमेशराज
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Juhi Grover
सब गोलमाल है
सब गोलमाल है
Dr Mukesh 'Aseemit'
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
Dr MusafiR BaithA
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
*
*"मां चंद्रघंटा"*
Shashi kala vyas
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
नेताम आर सी
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
Ragini Kumari
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्त्री की स्वतंत्रता
स्त्री की स्वतंत्रता
Sunil Maheshwari
उल्फत का दीप
उल्फत का दीप
SHAMA PARVEEN
थक गई हूं
थक गई हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
****भाई दूज****
****भाई दूज****
Kavita Chouhan
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
कांटों से तकरार ना करना
कांटों से तकरार ना करना
VINOD CHAUHAN
दिल से जाना
दिल से जाना
Sangeeta Beniwal
Loading...