Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

जीवन के रंग

जीवन के रंग

“मां जी, आप ये क्या कह रही हैं ? आपको तो सब पता है, फिर भी ?”

“हां बहू, मुझे सब कुछ पता है, इसीलिए तो कह रही हूं। तेरा पति सीमा पर शहीद हो गया, इसमें तुम्हारा क्या दोष ? देखो बहू, तुमने अगर अपना पति खोया है, तो मैंने भी अपना एक बेटा खोया है। आज तुम जहां खड़ी हो, 25 साल पहले मैं भी वहीं खड़ी थी। तुम्हें तो पता है कि तुम्हारे ससुर जी भी सीमा पर…।”

“…..”

“खैर छोड़ो पुरानी बातें… तुम्हारे पेट में हमारे परिवार की तीसरी पीढ़ी आकार ले रहा है। ऐसे में रोना-धोना और उदासी ठीक नहीं। तुम्हारे मम्मी-पापा और मेरे छोटे बेटे रमन से भी मेरी बात हो गई है। अगली बार छुट्टी पर आएगा, तो शुभ मुहूर्त देखकर तुम दोनों की शादी करा देंगे। हम सब चाहते हैं कि हमारा बेबी जब इस दुनिया में आंखें खोले, तो उसके मम्मी-पापा सामने हों। इसलिए आज मैंने होली खेलने के लिए अपनी सभी पड़ोसिनों को भी बुला लिया है।”

ऐसा कहकर मां जी ने अपनी बहू पर ढेर सारा गुलाल लगा दिया। सभी महिलाएं खुशी से मुस्कुरा उठीं और बहु शर्माते हुए पल्लू से मुंह छुपाने लगी।

– डॉ प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
भरत कुमार सोलंकी
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
माँ
माँ
Er. Sanjay Shrivastava
लोकतंत्र का मंदिर
लोकतंत्र का मंदिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"परवाने"
Dr. Kishan tandon kranti
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
जय अन्नदाता
जय अन्नदाता
gurudeenverma198
नियम
नियम
Ajay Mishra
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
2588.पूर्णिका
2588.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
वाक़िफ नहीं है कोई
वाक़िफ नहीं है कोई
Dr fauzia Naseem shad
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
मौन
मौन
लक्ष्मी सिंह
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
विद्रोही प्रेम
विद्रोही प्रेम
Rashmi Ranjan
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
कमरछठ, हलषष्ठी
कमरछठ, हलषष्ठी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
😊गज़ब के लोग😊
😊गज़ब के लोग😊
*Author प्रणय प्रभात*
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटियों को मुस्कुराने दिया करो
बेटियों को मुस्कुराने दिया करो
Shweta Soni
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
Loading...