Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

जीवन की इतने युद्ध लड़े

जीवन की इतने युद्ध लड़े
लड़े और जीते भी
पर पता नहीं उस दिन के बाद क्या हुआ
न तो मन एकाग्र हो पाया
न ही ये जगह सुहाया
ये वो जगह थी जिससे मन जुड़ा था
पर पता नहीं उस दिन के बाद जाने क्या हुआ
न दुख रहा अब पेड़ पौधों से बिछड़ने का
जो मेरी बातें सुना करते थे बिना कान के बड़े ध्यान से
न ही अब उस बड़े पत्थर से लगाव रहा
जिस पर मैं बैठकर ख़्वाब बुनती
जब मुझे इनसब की परवाह नही
तो इंसानों की कैसी होगी
मुझे अब बस खुद की परवाह करनी होगी
ताकि मैं दोबारा से जुड़ पाऊं खुद से
खुद को खुद के करीब ला पाऊं
तभी मुझे फिर से दुनिया खूबसूरत लगेगी
जैसे पहले लगा करती थी …

449 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
Mangilal 713
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
Suryakant Dwivedi
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
हे मेरे प्रिय मित्र
हे मेरे प्रिय मित्र
कृष्णकांत गुर्जर
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
Dr MusafiR BaithA
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
मेरी पहली होली
मेरी पहली होली
BINDESH KUMAR JHA
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
Buddha Prakash
*कौन-सो रतन बनूँ*
*कौन-सो रतन बनूँ*
Poonam Matia
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
Anil chobisa
रिश्तों की मर्यादा
रिश्तों की मर्यादा
Rajni kapoor
****बसंत आया****
****बसंत आया****
Kavita Chouhan
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
2634.पूर्णिका
2634.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वहशीपन का शिकार होती मानवता
वहशीपन का शिकार होती मानवता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
कैसी
कैसी
manjula chauhan
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
Loading...