Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 1 min read

जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन

जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन कहता है कि जिंदगी में समस्याएं -खड्डे नहीं है ?बांसुरी की तरह जीवन में भी कई होल और खालीपन है ,पर अगर उन पर काम करें तो वही होल खालीपन जादुई धुन पैदा कर सकते हैं।

455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
पिताश्री
पिताश्री
Bodhisatva kastooriya
Impossible means :-- I'm possible
Impossible means :-- I'm possible
Naresh Kumar Jangir
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
Can't relate......
Can't relate......
Sukoon
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
आप सच बताइयेगा
आप सच बताइयेगा
शेखर सिंह
नव वर्ष का आगाज़
नव वर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
Ravi Prakash
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
नाही काहो का शोक
नाही काहो का शोक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
3149.*पूर्णिका*
3149.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
चाय की घूंट और तुम्हारी गली
चाय की घूंट और तुम्हारी गली
Aman Kumar Holy
Loading...