Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)

वृक्ष होते हमारे जीवनसाथी
जिनसे जीवन में खुशहाली
चलो चले करते हैं प्रण हम
एक काटे, दस वृक्ष लगाए हम

जीवन की आधार वृक्ष है
खुशियों की श्रृंगार वृक्ष है
फिर भी काट रहे हैं वृक्ष हम
क्या इतना स्वार्थी बन गए है हम

वृक्ष लगानी है भविष्य बचानी है
ऐसी कई बड़ी बातें हम बतलाते हैं
वृक्ष लगाकर क्या सेवा करते है हम
क्या उसी उत्साह से इन्हें बढ़ाते है हम

वृक्ष पशु पक्षियों का होता बसेरा है
क्यों हम उनके निकेतन उजार रहे है
क्या पराए का घर, बसा न सकते हम
तो क्या उनके घर को, उजार दे हम

जीवनसंगिनी सी साथी है वृक्ष
मानवता की पूजारी है वृक्ष
इनके ही बल तो जीते हैं हम
फिर भी करते है कत्ल इन्हें हम

कुछ ऐसे भी बिन फलहारी लगाए वृक्ष
जो सतत् ही आक्सीजन देती हमें है वृक्ष
क्यों अपना ही फायदा ढूंढते रहते है हम
कभी तो आगे के बारे में भी सोच ले हम

क्यों वृक्ष महोत्सव की जरूरत पड़ रही
क्यों वृक्षारोपण अभियान चलानी पड़ रही
क्या वृक्षों के प्रति, जागरूक नहीं है हम
नहीं है तो क्यों नहीं है हम, क्यों नहीं है हम

रचनाकार:- अमरेश कुमार वर्मा

Language: Hindi
1 Like · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
'अशांत' शेखर
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
शायद आकर चले गए तुम
शायद आकर चले गए तुम
Ajay Kumar Vimal
राम नाम की धूम
राम नाम की धूम
surenderpal vaidya
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
Shekhar Chandra Mitra
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
पिता आदर्श नायक हमारे
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
"आज की रात "
Pushpraj Anant
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
🌺🌺मैंने छिपकर कई बार देखा तुम्हें🌺🌺
🌺🌺मैंने छिपकर कई बार देखा तुम्हें🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
Dr MusafiR BaithA
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
बापू की पुण्य तिथि पर
बापू की पुण्य तिथि पर
Ram Krishan Rastogi
मेरी कविताएं
मेरी कविताएं
Satish Srijan
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
अभिनव अदम्य
कोहरे के दिन
कोहरे के दिन
gpoddarmkg
Loading...