Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Dec 2020 · 1 min read

जीभ/जिह्वा

जिह्वा पर माँ शारदे, लब पर बसें गणेश ।
हर-पल शुभ-शुभ बोलिये,मिलता शुभ संदेश ।। १

मृदुल वचन रसना सरस,जीवन का श्रृंगार।
जीत जीभ को लीजिए, हो उत्तम व्यवहार।। २

फसें स्वाद के जाल में, खाते छप्पन भोग ।
रखें नियंत्रण जीभ पर, रहना अगर निरोग।। ३

जीभ जन्म से ही मिले, दाँत जन्म के बाद।
दाँत टूट जाते मगर, जिह्वा देती स्वाद।। ४

दाँत चबाते हैं मगर, जिह्वा पाती स्वाद।
पता चला है स्वाद का, चख लेने के बाद।। ५

बेलगाम जो जीभ है, वो विषधर तलवार।
घाव बहुत गहरा करे, जब भी करती वार।। ६

नर्म लचीली जीभ है, होते दाँत कठोर।
जीभ उमर भर साथ दे, गये दाँत सब छोड़।। ७

जिससे हो सबका भला, सदा करो वो कर्म।
कभी न कटुता धोलना,रखना जिह्वा नर्म ।। ८
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 833 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
पूर्वार्थ
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
Sudha Maurya
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
Pravesh Shinde
हादसें पूंछ कर न आएंगे
हादसें पूंछ कर न आएंगे
Dr fauzia Naseem shad
Humiliation
Humiliation
AJAY AMITABH SUMAN
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
***
*** " चौराहे पर...!!! "
VEDANTA PATEL
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
माँ तेरे चरणों
माँ तेरे चरणों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
🌹थम जा जिन्दगी🌹
🌹थम जा जिन्दगी🌹
Dr Shweta sood
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
■ अलविदा 2022, सुस्वागतम 2023
■ अलविदा 2022, सुस्वागतम 2023
*Author प्रणय प्रभात*
परमात्मा से अरदास
परमात्मा से अरदास
Rajni kapoor
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*नया साल आ गया (घनाक्षरी)*
*नया साल आ गया (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
जी लगाकर ही सदा
जी लगाकर ही सदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कौन लोग थे
कौन लोग थे
Surinder blackpen
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
रजनी कजरारी
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...