Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author

जीने का ढंग

जब कभी भी देखता हूँ ,
इस फैले आकाश में
करते हुए स्वच्छंद विचरण
पक्षियों के झुण्ड को ।
तो,मन कुछ चाहता है,सीखना ,
मसलन एकता ,
या केवल एकता ।
नयन कुछ चाहते हैं देखना
मसलन हरियाली
या केवल हरियाली ।
आत्मा कुछ चाहती है गाना
मसलन प्रेम
या केवल प्रेम ।
तब ,यह देह भी
कुछ चाहती है ओढ़ना
मसलन सहजता
या केवल सहजता ।
क्यों ? होता है ऐंसा ।
जब कभी भी देखता हूँ
इस फैले आकाश में
करते हुए स्वच्छंद विचरण
पक्षियों के झुण्ड को ।
शायद ! इसलिए-कि
बेज़ुवानों से भी हम
सीख सकते हैं
जीने का ढंग ।

4 Comments · 1107 Views
You may also like:
संघर्ष
Arjun Chauhan
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
वेवफा प्यार
Anamika Singh
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
पिता
Manisha Manjari
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
तेरी सूरत
DESH RAJ
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
"अशांत" शेखर
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️मैं आज़ाद हूँ (??)✍️
"अशांत" शेखर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
अगर ज़रा भी हो इश्क मुझसे, मुझे नज़र से दिखा...
सत्य कुमार प्रेमी
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...