Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

जीना हैं मुझे आज में

नही जीना हैं कल में
जीना हैं मुझे आज में
आशा-विश्वास के रंग
घोलेंगे आज पल में

कल क्या थे भूल के
मस्ती करेंगे हरपल में
खुशियों की बिखेरेंगे फूल
आज ज़िंदगी की गलियों में

झुलेंगे हवाँ के साथ
दरख्त की डाल में
गीत गायेंगे झुमेंगे आज
पुरवा की महकती शाम में

कौन जाने क्या होगा कल
जीना है मुझे आज में
फिर ना मिलेगा ऐसा पल
हैं स्वर्ग इस धरातल में

छोड़ दुनिया-दारी तू भी
आ रंग जा आज में
जैसे जीना हैं जी ले
प्रतिब्ध न रह मोह में

Language: Hindi
279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
DrLakshman Jha Parimal
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
हार कभी मिल जाए तो,
हार कभी मिल जाए तो,
Rashmi Sanjay
कैसे करें इन पर यकीन
कैसे करें इन पर यकीन
gurudeenverma198
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
#लघुकथा / कॉलेज का आख़िरी दिन
#लघुकथा / कॉलेज का आख़िरी दिन
*Author प्रणय प्रभात*
"प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
Bhagwan sabki sunte hai...
Bhagwan sabki sunte hai...
Vandana maurya
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
पिता
पिता
Harendra Kumar
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
पुष्प
पुष्प
Dhirendra Singh
एकांत बनाम एकाकीपन
एकांत बनाम एकाकीपन
Sandeep Pande
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
रैन  स्वप्न  की  उर्वशी, मौन  प्रणय की प्यास ।
रैन स्वप्न की उर्वशी, मौन प्रणय की प्यास ।
sushil sarna
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
2692.*पूर्णिका*
2692.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
Dr MusafiR BaithA
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
Arvind trivedi
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
Loading...