Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

जिस मुश्किल का यार कोई हल नहीं है

जिस मुश्किल का यार कोई हल नहीं है
उस मुश्किल का हल निकालना है मुझे

थोड़े से ही समय की बात और है सरल
रातों के चंगुल से कल निकालना है मुझे

✍कवि दीपक सरल

1 Like · 215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
Satish Srijan
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
😢दंडक वन के दृश्य😢
😢दंडक वन के दृश्य😢
*Author प्रणय प्रभात*
खोया है हरेक इंसान
खोया है हरेक इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* पानी केरा बुदबुदा *
* पानी केरा बुदबुदा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
*बूढ़े होने पर भी अपनी बुद्धि को तेज रखना चाहते हैं तो अपनी
*बूढ़े होने पर भी अपनी बुद्धि को तेज रखना चाहते हैं तो अपनी
Shashi kala vyas
*** चल अकेला.......!!! ***
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
ख़्वाबों की दुनिया
ख़्वाबों की दुनिया
Dr fauzia Naseem shad
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
बस जाओ मेरे मन में
बस जाओ मेरे मन में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सफलता का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
ये कटेगा
ये कटेगा
शेखर सिंह
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
TARAN VERMA
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
💐अज्ञात के प्रति-102💐
💐अज्ञात के प्रति-102💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
Loading...