Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

जिस बस्ती मेंआग लगी है

जिस बस्ती मेंआग लगी है
पानी पानी है
प्रेमनगर में
बस नफरत है
और बेईमानी है

भीड़ तो है
हर एक घर में
कौन कहानी कहता है
मरघट सा सन्नाटा लेकर
बुढ़िया नानी है

धन के मुख को
काला करके
कैद किया बेईमानों ने
लेकर भूख गरीबी
अब तो राजा रानी है

मानवता है
एक भिखारी
हैवानों की गलियों में
इंसानो का रूप किताबी
एक कहानी है

शर्म भी अब
बेशर्म हुआ
जल्लादों की आ जद में
सुन्दर परदों में भी नंगा
अब स्वाभिमानी है

Language: Hindi
1 Like · 956 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
जिंदगी एक सफर सुहाना है
जिंदगी एक सफर सुहाना है
Suryakant Dwivedi
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
*हीरे को परखना है,*
*हीरे को परखना है,*
नेताम आर सी
पिता
पिता
Kanchan Khanna
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
DrLakshman Jha Parimal
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
Ravi Prakash
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
"प्रीत की डोर”
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चलना सिखाया आपने
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
3086.*पूर्णिका*
3086.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"" *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* ""
सुनीलानंद महंत
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
*Author प्रणय प्रभात*
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
VINOD CHAUHAN
मेरे राम तेरे राम
मेरे राम तेरे राम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...