Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..

जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..
उस शज़र की छाँव में बैठी हूँ मैं

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
दिल नहीं
दिल नहीं
Dr fauzia Naseem shad
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
উত্তর দাও পাহাড়
উত্তর দাও পাহাড়
Arghyadeep Chakraborty
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" आज चाँदनी मुस्काई "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Sakshi Tripathi
*खारे पानी से भरा, सागर मिला विशाल (कुंडलिया)*
*खारे पानी से भरा, सागर मिला विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चलना सिखाया आपने
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
ना होंगे परस्त हौसले मेरे,
ना होंगे परस्त हौसले मेरे,
Sunil Maheshwari
■ रोने से क्या होने वाला...?
■ रोने से क्या होने वाला...?
*प्रणय प्रभात*
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
संजय कुमार संजू
*पृथ्वी दिवस*
*पृथ्वी दिवस*
Madhu Shah
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नववर्ष
नववर्ष
Mukesh Kumar Sonkar
"संयोग-वियोग"
Dr. Kishan tandon kranti
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
Loading...